Gautam Gambhir, Shahid Afridi engage in Twitter war over Article 370
शाहिद आफरीदी, गौतम गंभीर © Getty Images

पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर ने पाकिस्तानी दिग्गज शाहिद आफरीदी के कश्मीर मुद्दे पर यूनाइटेड नेशन्स और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड से मदद मांगने वाले ट्वीट पर करार जवाब दिया है।

दरअसल आफरीदी ने भारत सरकार के जम्मू और कश्मीर राज्य से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए ये ट्वीट किया था। पूर्व पाकिस्तानी कप्तान ने लिखा, “UN के संकल्प के अनुसार कश्मीरियों को उनके उचित अधिकार दिए जाने चाहिए। स्वतंत्रता के अधिकार हम सभी को पसंद हैं। UN क्यों बनाया गया और ये क्यों सो रहा है? अमानवीयता के खिलाफ कश्मीर में हो रही आक्रामकता और अपराधों पर ध्यान दिया जाना चाहिए। अमेरिकी राष्ट्रपित को मध्यस्थता के लिए अपनी भूमिका निभानी चाहिए।”

जवाब में सांसद बन चुके गंभीर ने लिखा, “शाहिद आफरीदी एकदम सही हैं दोस्तों। अकारण आक्रामता दिखाई जा रही है, इस मुद्दे को उठाने के लिए आपका शुक्रिया। लेकिन आप एक चीज बताना भूल गए कि ये सब ‘पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK)’में हो रहा है। आप चिंता ना करें, हम इसे सुलझा लेंगे बेटा।”

5 अगस्त को, भारतीय सरकार ने ऐतिहासिक फैसले में अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया, जो भारत के संविधान का एक संवेदनशील हिस्सा है क्योंकि ये कश्मीर को स्वायत्तता की गारंटी देता है। इस फैसले के तहत जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग कर दो केंद्र शासित प्रदेश बना दिए गए हैं।

बेंच स्ट्रेंथ आजमाना चाहेगी टीम इंडिया, विंडीज के पास क्लीन स्वीप से बचने का आखिरी मौका

ये पहला मौका नहीं है जब ये दोनों खिलाड़ी सोशल मीडिया पर बहसबाजी करते नजर आए हैं। इसी साल मई महीने में जब आफरीदी ने अपनी आत्मकथा गेमचेंजर का विमोचन किया था और उसमें ये बात कही थी कि ‘गंभीर ऐसे इंसान हैं जिनकी कोई शख्सियत नहीं है और उनके रवैए में काफी दिक्कत है।”

गंभीर ने तुरंत इसका जवाब दिया था। उन्होंने ट्वीट किया था कि आफरीदी को मनोचिकित्सक के पास जाने की जरूरत है। आफरीदी ने गंभीर पर पलटवार कर कहा था कि ऐसी समस्या गंभीर को है और वो चाहें तो पाकिस्तान आकर अपना इलाज करवा सकते हैं।