Gautam Gambhir wanted me to become a long-term player: Kuldeep Yadav
कुलदीप यादव © IANS

टीम इंडिया के प्रमुख स्पिन गेंदबाज कुलदीप यादव को राष्ट्रीय टीम में डेब्यू किए दो साल होने वाले हैं। 25 मार्च 2017 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ धर्मशाला टेस्ट में अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू करने वाले कुलदीप यादव ने सीमित ओवर फॉर्मेट में भी अपनी जगह पक्की कर ली है। कुलदीप विश्व कप के लिए इंग्लैंड जाने वाले स्क्वाड में भी अपनी जगह लगभग पक्की कर चुके हैं।

ये भी पढ़ें: मुंबई बनाम दिल्ली मैच में पांड्या और बुमराह पर रहेगी नजर

इंडियन टी20 लीग के जरिए राष्ट्रीय चयनकर्ताओं की नजर में आए इस खिलाड़ी ने अपनी सफलता का श्रेय पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर को दिया है। द टेलीग्राफ को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कुलदीप ने साल 2014 में कोलकाता टीम से जुड़ने को अपने करियर का टर्निंग प्वाइंट बताया। उन्होंने कहा कि गंभीर हमेशा से चाहते थे कि कुलदीप थोड़े समय की सफलता पाने की बजाय लंबा खेलने वाले क्रिकेटर बने।

ये भी पढ़ें: जीत से अभियान शुरू करना चाहेगा हैदराबाद, निगाहें वार्नर पर

चाइनामैन गेंदबाज ने कहा, “मैं साल 2014 में कोलकाता टीम से जुड़ा और उस साल चैंपियंस लीग खेली। इंडियन टी20 लीग में मेरा डेब्यू उसके दो साल बाद हुआ लेकिन गौती भाई, तत्कालीन कप्तान चाहते थे कि क्रिकेट की सबसे कठिन लीग के दबाव में जाने से पहले मैं पूरी तरह से तैयार हो जाउं। गौती भाई ने मुझे विश्वास दिलाया कि मैं सारे मैच खेलूंगा और ड्रॉप नहीं किया जाउंगा, चाहे मैं उम्मीद मुताबिक प्रदर्शन करूं या ना करूं। गौती भाई चाहते थे कि मैं ऐसा खिलाड़ी बनूं जो कि लंबा खेले। उनकी कप्तानी में खेलना मेरे करियर का एक बेहद अहम हिस्सा है।”

ये भी पढ़ें: फिरकी के फेर में फंसी विराट कोहली की सेना, चैंपियन ने किया चित

कुलदीप कोलकाता के अलावा मुंबई फ्रेंचाइजी के लिए भी खेल चुके हैं लेकिन हैरानी की बात हैं कि बतौर फैन दोनों में से कोई भी टीम उनकी पसंदीदा नहीं थी। दरअसल इंडियन टी20 लीग में कुलदीप की फेवरेट टीम चेन्नई सुपर किंग्स थी।

अपनी पसंदीदा टीम के बारे में कुलदीप ने कहा, “मैं चेन्नई टीम का बहुत बड़ा फैन था और मैं सोचता था कि कोई ऐसा मौका होगा जब मैं महेंद्र सिंह धोनी के साथ खेल पाउंगा। इंडियन टी20 लीग में तो नहीं लेकिन मैंने टीम इंडिया में उनके साथ काफी खेला है। धोनी के अलावा मैं मैथ्यू हेडन की बल्लेबाजी को पसंद करता था और वो भी चेन्नई टीम में थे। वो, तब मेरी पसंदीदा फ्रेंचाइजी थी, जब तक कि मैं खुद इंडियन टी20 लीग का खिलाड़ी नहीं बना।”