Geoffrey Boycott: All those who introduce the concept of player of the match are idiots
Geoffrey Boycott (File Photo) © Getty Images

इंग्‍लैंड के पूर्व क्रिकेटर जेफ्री बायकॉट ने मैन ऑफ द मैच शब्‍द की जगह प्‍लेयर ऑफ द मैच का इस्‍तेमाल किए जाने के निर्णय की कड़े शब्‍दों में आलोचना की है। गुड मॉर्निंग ब्रिटेन से बातचीत के दौरान 77 वर्षीय जेफ्री बायकॉट ने कहा, “जेंडर इक्‍वेलिटी के नाम पर इस तरह से मैन ऑफ द मैच अवार्ड का नाम बदला जाना गलत है।”

उन्‍होंने सवाल उठाते हुए कहा, “अगर महिलाओं का क्रिकेट हो रहा है तो हम वूमेन ऑफ द मैच और फीमेल ऑफ द मैच शब्‍दों का इस्‍तेमाल क्‍यों नहीं कर सकते हैं। ऐसा करने में बुराई क्‍या है।”

जेफ्री बायकॉट का मानना है कि आपके पास करने के लिए कुछ और काम नहीं है तो अपने दफ्तर में बैठै बैठे मैन ऑफ द मैच का नाम बदलने का निर्णय ले लिया। ऐसे में हर क्रिकेट क्‍लब को मैन ऑफ द मैच का नाम बदलना पड़ेगा। मैन ऑफ द मैच का नाम बदलने की सोच रखने वाले लोग मूर्ख हैं।

इस मुद्दे पर बहस एक बार उस वक्‍त शुरू हुई जब नॉटिंघम में खेले गए सीरीज के तीसरे टेस्‍ट मैच के दौरान माइकल वॉन ने ट्वीट किया था कि “अब मैन ऑफ द मैच की जगह क्रिकेट में प्‍लेयर ऑफ द मैच शब्‍द का इस्‍तेमाल किया जाएगा। मैच में 22 आदमी खेल रहे हैं, फिर भी नाम में ये परिवर्तन।” इसपर कमेंटेटर एलिसन मिशेल ने लिखा कि सभी 22 आदमी प्‍लेयर ही हैं।