Gundappa Viswanath’s surprise visit delights young Prithvi Shaw
Prithvi Shaw ॅians

भारतीय क्रिकेट के युवा सनसनी पृथ्वी शॉ मुंबई की तरफ से विजय हजारे ट्रॉफी फाइनल में महज 3 गेंद खेलकर ही आउट हो गए। धमाकेदार फॉर्म में चल रहे पृथ्वी शॉ के साथ ऐसा कभी कभार ही होता है जब वह बल्लेबाजी में दहाई का आंकड़ा पार ना कर पाए हों। आउट होकर पवेलियन में निराश बैठे पृथ्वी को पूर्व दिग्गज गुंडप्पा विश्वनाथ ने अचानक आकर सरप्राइज दिया।

पृथ्वी ने टेस्ट डेब्यू पर शानदार शतक जमाकर हर किसी की तरीफ पाई। राजकोट टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ पहला टेस्ट खेलते हुए पृथ्वी ने 134 रन की पारी खेली थी। इस एक पारी के साथ उन्होंने पहले टेस्ट में शतक लगाने वाले दिग्गजों की लिस्ट में नाम लिखवाया।

फर्स्टक्लास और इंटरनेशनल टेस्ट डेब्यू पर शतक लगाने वाले पृथ्वी विश्व क्रिकेट में तीसरे खिलाड़ी बनें। इसी लिस्ट में पूर्व दिग्गज गुंडप्पा विश्वनाथ का नाम भी शामिल है। गुंडप्पा विश्वनाथ ने 1969 में यह कारनामा किया था।

टाइम्स ऑफ इंडिया से गुंडप्पा विश्वनाथ ने कहा, ”जब मैंने सुना पृथ्वी शॉ बैंगलोर में खेल रहा है तो मैंने तय किया उससे मिलने जाउंगा। मैंने इस युवा को शानदार डेब्यू और विशिष्ट क्लब में शामिल होने पर बधाई दी। मैंने उनको कहा, आप 49 साल में इस खास क्लब में शामिल होने वाले सिर्फ दूसरे भारतीय हो। मैंने उनको शुभकामनाएं दी और कहा, यह सिर्फ शुरुआत है। उम्मीद है वो ऐसे ही आगे बढ़े और बहुत सारे शतक बनाए।”

पृथ्वी शॉ भी इस भारतीय दिग्गज से मिलकर काफी खुश नजर आए। उन्होंने कहा, ”गुंडप्पा विश्वनाथ सर से मिलकर सपना पूरा हुआ। वो इस खेल के एक महान खिलाड़ी हैं।”