Hanuma Vihari: I can bat both patiently and attacking
हनुमा विहारी (AFP)

भारत के वेस्टइंडीज दौरे पर खेली गई दो मैचों की टेस्ट सीरीज में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज हनुमा विहारी का कहना है कि उनका खेल किसी एक बैटिंग स्टाइल से बंधा नहीं है। विहारी ने कहा कि वो अटैकिंग और डिफेंसिव दोनों तरीकों से बल्लेबाजी कर सकते हैं।

विंडीज दौरे पर खेली विहारी की दो टेस्ट पारियां सबसे अहम रहीं। एंटीगा टेस्ट की दूसरी पारी में बनाए 93 रन और जमैका टेस्ट में जड़ा शतक। हालांकि दोनों ही पारियों में विहारी के स्ट्राइक रेट में काफी अंतर दिखा। एंटीगा में विहारी 72.66 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी कर रहे थे तो जमैका में उनका स्ट्राइक रेट 49.33 का हो गया।

अंबाती रायुडू ने माना, रिटायरमेंट का फैसला जल्दबाजी में लिया

इस पर विहारी ने कहा, “क्रिकेट में ऐसी ही स्थितियां होती हैं। कभी आपको तेज खेलना होता है तो कभी धैर्य के साथ बल्लेबाजी करनी होती है। मैं हालात को अच्छे से पढ़ता हूं और उस हिसाब से बल्लेबाजी करता हूं। दूसरे टेस्ट की दूसरी पारी में मैंने धीमी शुरुआत करने के बाद रनों की रफ्तार बढ़ाई थी। पहले टेस्ट में टीम को मेरे एक खास तरीके से खेलने की जरूरत थी और मैंने वो किया। दूसरे टेस्ट में, जिन हालात में बल्लेबाजी करने आया, उसमें धैर्य के साथ खेलने की जरूरत थी।”

उन्होंने आगे कहा, “मैं खुश हूं कि मैंने अच्छा प्रदर्शन किया। मैं धैर्य के साथ भी बल्लेबाजी कर सकता हूं और आक्रामक होकर भी खेल सकता हूं। मैं हालात को पढ़कर उसके हिसाब से बल्लेबाजी कर सकता हूं। इसी वजह से दोनों टेस्ट मैच के स्ट्राइक रेट में अंतर था।”

जेम्स नीशम के ऑलराउंड प्रदर्शन के दम पर नाइट राइडर्स ने जीत से खोला खाता

आंध्र प्रदेश से आने वाले विहारी की बल्लेबाजी शैली पूर्व दिग्गज वीवीएस लक्ष्मण से काफी प्रभावित है। हालांकि विहारी अपनी तुलना लक्ष्मण जैसे महान बल्लेबाज से नहीं करते। उन्होंने कहा, “मेरी तुलना उनसे मत करिए। मैंने वीवीएस सर से बहुत कुछ सीखा है। वो महान हैं। मैंने हैदराबाद में काफी समय गुजारा है। आईपीएल और घरेलू सीजन के दौरान हमने क्रिकेट को लेकर काफी चर्चा की। उनके पास अपार अनुभव है और मैं उनके साथ चर्चा करना पसंद करता हूं।”

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने हालिया बयान में कहा था कि जब विहारी क्रीज पर होते हैं तो ड्रेसिंग रूम में शांति होती है। इस पर विहारी ने कहा कि कप्तान उन्हें खुद पर विश्वास दिलाते हैं।
एशेज के दौरान अनोखा नजारा, बिना बेल्‍स के खेला गया मैच

विहारी ने कहा, “वो मुझे काफी आत्मविश्वास देते हैं। ये मेरे लिए बड़ी बात है। अगर मैं टीम को इस तरह का विश्वास दिला पाता हूं तो ये मेरे लिए बहुत मायने रखता है। इससे मुझे आगे बढ़ने का प्रोत्साहन मिलता है। मैं ऐसा खिलाड़ी बनना चाहता हूं जिस पर टीम विश्वास कर सके। मैं जब तक संभव हो सकते तब तक टीम के लिए बल्लेबाजी करना चाहता हूं।”