Harbhajan Singh denies apologizing to Andrew Symonds for ‘monkeygate’
symonds-harbhajan (AFP Photo)

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स ने कहा है कि भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह  ‘मंकीगेट’ प्रकरण के बाद इस मामले को सुलझाने के दौरान ‘रोने लगे’ थे। उधर हरभजन सिंह ने रोने वाली बात को नकारते हुए कहा है कि ये कब हुआ था।

वर्ष 2008 में सिडनी टेस्ट के दौरान यह घटना हुई थी जिसमें हरभजन पर साइमंड्स को ‘मंकी’ कहने का आरोप लगा था। इस घटना के एक दशक बाद साइमंड्स ने कहा कि तीन साल बाद उन्होंने इस मामले को खत्म कर दिया था।

पढ़ें: पीटर हैंड्सकॉम्ब पर भड़के शेन वार्न, कहा ‘मार्कस स्टोइनिस या मिशेल मार्श को टीम में लाएं’

इन दोनों ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में मुंबई की ओर से खेलते हुए इस विवाद को खत्म किया।

साइमंड्स ने ‘फॉक्स स्पोर्ट्स’ से कहा, ‘वह रोने लगे थे और मैंने देखा कि इसे लेकर उनपर काफी बोझ है और वह इसे खत्म करना चाहते हैं। हमने हाथ मिलाए और मैं उससे गले मिला और कहा ‘दोस्त, सब कुछ सही है। यह मामला खत्म।’

भज्‍जी बोले-ये कब हुआ????

साइमंड्स के इस तरह के बयान आने के बाद हरभजन सिंह ने एक ट्वीट करते हुए अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की। भज्जी ने ये ट्वीट किया। भज्जी ने अपने ट्वीट में चौंकने वाले अंदाज में लिखा, ये कब हुआ???? मै रोया????? किस वजह से?????

 

 

तब भारत और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच क्रिकेट रिश्‍ते सबसे खराब दौर में पहुंच गए थे

उस समय इस तरह की टिप्पणी से इनकार करने वाले हरभजन पर तीन मैचों का निलंबन लगाया गया था। भारत ने हालांकि इसका विरोध किया था जिसके बाद प्रतिबंध हटा दिया गया। उस समय भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट रिश्ते सबसे खराब दौर पर पहुंच गए थे।

साइमंड्स ने कहा, ‘हम एक रात बेहद अमीर आदमी के घर डिनर के लिए गए और पूरी टीम वहां मौजूद थी। वहां मेहमान मौजूद थे और हरभजन ने कहा कि दोस्त क्या मैं एक मिनट के लिए तुम्हारे साथ बगीचे में बात कर सकता हूं।’

पढ़ें: शानदार गेंदबाजी पर सचिन ने भी की नाथन लियोन की तारीफ, कही ये बात

उन्होंने कहा, ‘ उसने कहा, ‘देखो, मैंने सिडनी में तुम्हारे साथ जो किया उसके लिए माफी मांगना चाहता हूं। मैं काफी मांगता हूं, मैं उम्मीद करता हूं कि इससे आपको, आपके परिवार, आपके दोस्तों को काफी नुकसान नहीं पहुंचा होगा और मैंने जो कहा उसके लिए मैं काफी मांगता हूं, मुझे यह नहीं कहना चाहिए था।’

(इनपुट-एजेंसी)