harbhajan singh praised cheteshwar pujara said his performances does not get noticed
हरभजन सिंह ने चेतेश्वर पुजारा की तारीफ की है

नई दिल्ली: पूर्व भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने सीनियर बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की तारीफ की है। हरभजन का मानना है कि पुजारा ने भारतीय क्रिकेट में जो योगदान दिया है उस पर कई बार तवज्जो नहीं दी मिलती। रोहित शर्मा कोविड-19 (Rohit Sharma Health Update) से संक्रमित होने के बाद एक जुलाई से एजबेस्टन में होने वाले इस टेस्ट मैच में नहीं खेलेंगे। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि टीम प्रबंधन चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) को पारी की शुरुआत करने की जिम्मेदारी सौंप सकता है।

इंग्लैंड की टीम टेस्ट क्रिकेट (England Cricket Team) में अच्छी फॉर्म में चल रही है। उसने हाल ही में न्यूजीलैंड (England vs New Zealand) को टेस्ट सीरीज में 3-0 से मात दी है। हालांकि, पुजारा भी चुनौती के लिए तैयार लग रही हैं। हाल ही में काउंटी चैंपियनशिप में ससेक्स की ओर से खेलते हुए उन्होंने पांच मैचों में 700 से ज्यादा रन बनाकर फॉर्म में लौटने के संकेत दिए थे।

हरभजन ने कहा कि काउंटी क्रिकेट में भी कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी खेले थे और पुजारा ने उस चुनौती का शानदार तरीके से सामना किया था। उन्होने यह भी कहा कि जब भारत में बाकी क्रिकेटर आईपीएल (Indian Players in IPL 2022) खेल रहे थे तो पुजारा काउंटी क्रिकेट खेल रहे थे। इसके साथ ही हरभजन ने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भी पुजारा के प्रदर्शन को सराहा।

हरभजन ने कहा, ‘वह निरंतर इंग्लिश परिस्थितियों में खेल रहे हैं। आप कह सकते हैं कि काउंटी क्रिकेट में अंतरराष्ट्रीय स्तर के गेंदबाज नहीं होते, हां लेकिन काउंटी टूर्नमेंट में भी आपको ऐसे एक-दो क्रिकेटरों का सामना करना पड़ता है जो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते हैं। यह देखकर अच्छा लगा कि पुजारा ने इस विकल्प को चुना और काउंटी क्रिकेट खेलने का फैसला किया। वह वहां भी अच्छी फॉर्म में थे। जब हम ऑस्ट्रेलिया गए थे तो भी उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था हालांकि उस पर ज्यादा चर्चा नहीं की गई।’

स्पोर्टकीड़ा के साथ बातचीत करते हुए हरभजन ने कहा, ‘इंग्लैंड में भी… जब आपको गेंद की चमक कम करनी होती है, एक ओर रन बनते रहें और दूसरी ओर से एक बल्लेबाज टिककर खड़ा रहे तो किसी ने भी पुजारा से बेहतर काम नहीं किया। उनके ऊपर तलवार लटक रही थी सब कह रहे थे कि उन्हें टीम से बाहर किया जाए, जो मुझे लगता है कि सही नहीं था। जब भी भारत ने विदेशी दौरों पर पुजारा ने टीम इंडिया के साथ कमाल का काम किया है क्योंकि वह आउट ही नहीं होते, वह दूसरों के लिए काम आसान बनाते हैं। वह गेंद को पुराना करने में मदद करते हैं। यही वजह है कि भारत विदेशों में काफी मैच जीता है।’