हरभजन सिंह और एस एस धोनी © AFP
हरभजन सिंह और एस एस धोनी © AFP

जब से खबरें आई हैं कि आम्रपाली ग्रुप की 3 कंपनियां दीवालिया घोषित हो सकती हैं तभी से कई लोगों ने क्रिकेटर हरभजन सिंह और एम एस धोनी को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। 2016 तक ये दोनों ही खिलाड़ी आम्रपाली ग्रुप के ब्रैंड एंबेसडर थे और हजारों लोगों ने इस ग्रुप के फ्लैट खरीदे थे लेकिन आम्रपाली ग्रुप ने लोगों से पैसे लेने के बावजूद अबतक किसी को घर नहीं दिया जिसके बाद लोग हरभजन और धोनी को सोशल मीडिया से लेकर धरना-प्रदर्शनों में कोस रहे हैं।

एक यूजर ने हरभजन सिंह और धोनी के बारे में ट्विटर पर लिखा, ‘धोनी, हरभजन आप लोगों को तो विला मुफ्त में मिल गए लेकिन हमारा तो पैसा ही डूब रहा है। ‘ इस पर हरभजन सिंह ने जवाब दिया, ‘भाई तुझे किसने बोला हमें विला मिल गए हैं? ठेंगा मिला है हमें। बेवकूफ बनाया गया। हमारे नाम का इस्तेमाल कर जनता के पैसे मारे गए हैं।’

हरभजन सिंह के इस जवाब पर एक और यूजर ने हरभजन और एम एस धोनी को आड़े हाथों लिया और लिखा, ‘ आम्रपाली ग्रुप के अध्यक्ष एम एस धोनी के बहुत अच्छे दोस्त हैं इसीलिए हरभजन सिंह झूठ मत बोलो।’

इस यूजर की बात पढ़कर हरभजन सिंह गुस्सा गए और उसे एम एस धोनी से ही सवाल पूछने की सलाह दे डाली। भज्जी ने लिखा, ‘वो धोनी का दोस्त हो सकता है लेकिन मेरा नहीं है। इसलिए अच्छा है कि तुम धोनी से ही पूछो। अगर थोड़ा सा भी दिमाग है तो उसका इस्तेमाल करो।’

आपको बता दें जेपी इन्फ्राटेक के बाद अब आम्रपाली ग्रुप की 3 कंपनियों के खिलाफ कॉर्पोरेट इनसॉल्वंसी रेजॉलुशन की प्रक्रिया शुरू होगी। बैंक ऑफ बड़ौदा की अर्जी पर नोएडा की सिलिकन सिटी, ग्रेटर नोएडा की अल्ट्रा होम कंस्ट्रक्शन और आम्रपाली इन्फ्रास्ट्रक्चर के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी हो रही है।