© Getty Images
© Getty Images

नागपुर। हार्दिक पांड्या को बल्लेबाजी क्रम में ऊपर चौथे नंबर पर भेजने का भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री का फैसला मास्टरस्ट्रोक साबित हुआ और उनका मानना है कि बड़ौदा का यह हरफनमौला दुनिया के किसी भी मैदान पर चौके छक्के लगा सकता है। शास्त्री के निर्देश पर ही पंड्या को इंदौर वनडे में चौथे नंबर पर उतारा गया जिसमें उसने 78 रन बनाये। अगले मैच में उन्होंने 41 रन बनाये लेकिन भारत वह मैच हार गया।

इस फैसले के बारे में पूछने पर शास्त्री ने कहा ,‘‘हार्दिक खतरनाक खिलाड़ी हैं। वह गेंद को पीटने के फन में माहिर हैं खासकर स्पिनरों को बखूबी खेलते हैं। मैंने उनकी तरह स्पिनरों को खेलने वाला खिलाड़ी नहीं देखा। युवराज सिंह अपने करियर के चरम दिनों में ऐसे ही थे। ये लोग दुनिया के किसी भी मैदान पर चौके छक्के लगा सकते हैं।’’ कोच ने यह भी कहा कि 243 रन के लक्ष्य को हासिल करना श्रृंखला में सर्वश्रेष्ठ प्रयास था क्योंकि नागपुर की पिच पर रन आसानी से नहीं बनते।

उन्होंने कहा ,‘‘हमने आखिर में सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजी की। यह आसान ट्रैक नहीं था और हिटमैन ( भारतीय ड्रेसिंग रूम में रोहित का निकनेम) ने इसे आसान बना दिया। उनकी बल्लेबाजी देखने लायक थी।’’  [ये भी पढ़ें: आखिरी वनडे में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 7 विकेट से धोया, सीरीज और नंबर-1 की कुर्सी पर कब्जा]

इस जीत के साथ ही टीम इंडिया आईसीसी रैंकिंग में फिर से नंबर-1 बन गई है। वहीं ये पहली बार है जब टीम इंडिया ने 5 मैचों की वनडे सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 4-1 से हराया है। साथ ही भारत में ऑस्ट्रेलिया की ये लगातार दूसरी वनडे सीरीज हार है। इससे पहले साल 2013 में भी टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को 3-2 से हराया था।

243 रनों के लक्ष्य को टीम इंडिया ने 42.5 ओवरों में सिर्फ 3 विकेट खोकर ही हासिल कर लिया। भारत की तरफ से रोहित शर्मा ने शानदार शतक लगाया और उन्होंने (125) रनों की पारी खेली। रोहित के अलावा अजिंक्य रहाणे ने भी शानदार बल्लेबाजी करते हुए (61) रन बनाए। वहीं तीसरे नंबर पर खेलने इतरे विराट कोहली (39) रनों की पारी खेली।