गुजरात टाइटंस (Gujarat Titans) टीम के निदेशक विक्रम सोलंकी (Vikram Solanki) ने कहा है कि उनकी टीम तीन स्तंभों पर खड़ी है-  कड़ी मेहनत करना, स्मार्ट क्रिकेट खेलना और गलतियां ना करना. यहीं कारण है कि आईपीएल 2022 के फाइनल में पहुंचने में कप्तान हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) की टीम ने सफलता पाई है.

उन्होंने ये भी कहा कि पांड्या में क्रिकेट को लेकर बेहद जुनून है, जिसने उन्हें गुजरात टाइटंस का नेतृत्व करने के लिए सबसे आगे खड़ा कर दिया. सोलंकी ने कहा, “मेरे लिए, ये बहुत स्पष्ट था कि जब हमने हार्दिक से कप्तानी के बारे में बात की थी, तो वो (हार्दिक पांड्या) इससे लेकर उत्साहित थे. वो एक तरह से मनोरंजक और अपनी शैली से क्रिकेट खेलते हैं.”

सोलंकी ने कहा कि पांड्या की खिलाड़ियों को गलतियों से बचने के लिए प्रोत्साहित करने और अपने अनुभव साझा करने की शैली कुछ ऐसी रही है जिसने टीम को आगे बढ़ाने में मदद की है.

सोलंकी ने कहा, “वो उन सभी अनुभवों का उपयोग उस तरह से नेतृत्व करने के लिए करते हैं जिस तरह से वो करना चाहते हैं. वो वास्तव में अच्छा काम कर रहे हैं.”

टीम में संस्कृति के बारे में विस्तार से बताते हुए सोलंकी ने कहा कि ये तीन स्तंभों पर आधारित है. उन्होंने कहा, “हमारी टीम तीन स्तंभों पर खड़ी है. कड़ी मेहनत करें, स्मार्ट क्रिकेट खेलें और हम स्वीकार करते हैं कि हम गलतियां नहीं करने जा रहे हैं.”

ये पूछे जाने पर कि क्या टीम अहमदाबाद में एक लाख दर्शकों के सामने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ फाइनल खेलने के बड़े अवसर के लिए तैयार है, तो सोलंकी ने कहा, “मुझे लगता है कि हम जिस तरह से अपना क्रिकेट खेलते हैं, उस पर विश्वास करते हैं और हम किसी भी दबाव की स्थिति में आगे निकल जाते हैं, क्योंकि हमारे खिलाड़ी इससे निकलना जातने हैं. यह हमारे लिए पहला फाइनल है और हमारे पास कुछ खास करने का अवसर है.”