हार्दिक पांड्या हार्दिक पांड्या © Getty Images
हार्दिक पांड्या हार्दिक पांड्या © Getty Images

पिछले कुछ सालों से टीम इंडिया एक तूफानी बल्लेबाजी की कमी से जूझ रही थी। हार्दिक पांड्या के आने के बाद टीम इंडिया ने उस विभाग में खासी भरपाई कर ली है। जिस अंदाज में वह गेंद को छह रनों के लिए बाउंड्री लाइन के बाहर भेजते हैं, वह हर किसी को उनका दीवाना बना देता है। साथ ही वह गेंदबाजी से भी हर किसी को प्रभावित कर रहे हैं। यही कारण है कि क्रिकेटप्रेमी पांड्या को कपिल के बाद टीम इंडिया का सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर बता रहे हैं। हाल ही में पांड्या ने स्पोर्ट्स लाइव के साथ एक इंटरव्यू में अपनी मैदान के बाहर जिंदगी, जो उनकी रंग बिरंगी हेयरस्टाइल की ही तरह रंगीन है, के बारे में बताया। पांड्या ने बताया कि कैसे राहुल द्रविड़ ने उनके करियर को ऊंचाई तक ले जाने में अहम भूमिका निभाई।

राहुल द्रविड़ से हुई बातचीत में पांड्या ने बताया, “यहां तक कि मैंने हाल ही में एक आर्टिकल पढ़ा जिसमें उन्होंने कहा था कि वह स्वभाविक क्षमताओं में विश्वास नहीं करते। यह बात भी सही है, क्योंकि जब आपकी टीम को आपके द्वारा एक अलग तरह का खेल खेलने की जरूरत हो तो आप कहीं भी स्ट्रोक नहीं खेल सकते। मेरा कोई व्यक्तिगत एजेंडा नहीं है, मेरी व्यक्तिगत रिकॉर्ड पर निगाहें नहीं हैं। एक बार जब टीम मीटिंग के दौरान (इंडिया ए टूर में) एक टीममेट से उसके मैच में प्लान के बारे में पूछा गया तो उसने कहा, “मैं अपना स्वभाविक गेम खेलूंगा।” इसके बाद द्रविड़ ने बताया कि स्वभाविक गेम कुछ होता ही नहीं है।”

“मैंने उस बात को समझा कि वह क्या कह चाह रहे थे। अगर आपकी टीम के 45 रनों पर 6 विकेट गिर चुके हैं और आप जाते हैं और गेंद को हवा में खेलते हैं, और आउट हो जाते हैं और कहते हैं कि ये मेरा स्वभाविक गेम था, तो वह उसका स्वभाविक गेम नहीं है। मेरे हिसाब से यह मूर्खता है। स्वभावित गेम कुछ परिस्थितियों में आपके लिए मददगार साबित हो सकता है, लेकिन हमेशा नहीं। द्रविड़ ने हमेशा उदाहरण दिए हैं कि कैसे अपने खेलने के तरीके को परिस्थितियों के हिसाब से बदलो। मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे लीजेंड से सीखने का मौका मिला।”

पिछले दिनों पांड्या की तुलना हरियाणा हरीकेन कपिल देव से की गई थी। हालांकि, पांड्या का मानना है कि उनके करियर में इस समय कपिल से उनकी तुलना अनावश्क है। कपिल से तुलना पर हार्दिक ने कहा, “जैसा कि मैं पहले ही कह चुका हूं, अगर मैं कपिल देव के मुकाबले 10 प्रतिशत भी प्राप्त कर पाया तो ये मेरे लिए बड़ी उपलब्धि होगी। मुझे नहीं लगता कि किसी को मेरी किसी से तुलना करने की जरूरत है। वे महान हैं, उन्हें महान ही रहने दें। जो टैग उन्हें मिला है वह उसके हकदार हैं, मुझे हार्दिक पांड्या के रूप में खेलने दें।”

वाडा टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया ये भारतीय क्रिकेटर, बढ़ी मुश्किलें
वाडा टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया ये भारतीय क्रिकेटर, बढ़ी मुश्किलें

अपने भविष्य के बारे में बातचीत करते हुए पांड्या ने बताया, “मैं चीजों को उसी तरह से लेना चाहता हूं जिस तरह से वे आएं। मैं वर्तमान में जीना चाहता हूं और भविष्य के बारे में ज्यादा नहीं सोचना चाहता। मैं कुछ चीजों को लेकर उत्साहित हो जाता हूं, बस इतना ही। मैं नई सीरीज को लेकर भी उत्साहित हो जाता हूं। मुझे बड़ी टीमों के खिलाफ खेलना पसंद है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलने के लिए मैं बेहद उत्साहित हूं। न्यूजीलैंड को लेकर भी मैं बहुत उत्साहित हूं। जो भूमिका मैं टीम में निभा रहे हूं उसको लेकर मैं खासा खुश हूं।”