Hardik Pandya, Ravichandran Ashwin could have batted better, says Sanjay Bangar
Moeen Ali took Ravichandran Ashwin's wicket (Getty Images)

इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट के दूसरे दिन शीर्ष क्रम के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने बिखरती हुई भारतीय पारी को संभाला। पुजारा के शानदार शतक की बदौलत टीम इंडिया ने इंग्लैंड के 246 रनों के स्कोर के जवाब में 273 रन बनाए। टीम इंडिया की 27 रनों के ये बढ़त और बड़ी होती अगर पुजारा को निचले क्रम के बल्लेबाजों का साथ मिलता। ऐसा कहना है टीम के बल्लेबाज कोच संजय बांगड़ का।

दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद भारतीय बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ ने कहा कि अगर पांड्या और अश्विन ने थोड़ा बेहतर प्रयास किया होता तो भारत बेहतर स्थिति में होता। बांगड़ ने कहा, ‘‘दो बल्लेबाजों ने वास्तव में अपने विकेट आसानी से गंवाए। हार्दिक ने जब गेंद को ड्राइव किया तब वो गेंद की लाइन में नहीं थे और अश्विन ने अपनी पारी के काफी शुरू में ही रिवर्स स्वीप करने का प्रयास किया। क्रीज पर पांव जमाने के बाद पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ बल्लेबाजी करते हुए ही इस तरह का शॉट खेला जा सकता है।’’

अश्विन केवल एक रन बना पाए जबकि पंड्या ने चार रन बनाए। बांगड़ ने कहा, ‘‘तब पुजारा एक छोर से अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे तो दूसरे छोर से बल्लेबाज परिस्थितियों के अनुसार बल्लेबाजी कर सकते थे। पेशेवर क्रिकेटर होने के कारण हम हर तरह की गेंदबाजी का सामना करने का अभ्यास करते हैं। हमारी किक्रेट केवल तेज गेंदबाजी का सामना करने तक ही सीमित नहीं है, हमने स्पिन अटैक का सामना करने के लिए भी अभ्यास किया और उस पर चर्चा की थी।’’

पुजारा की 132 रनों की पारी में बात करते हुए बांगड़ ने कहा, ‘‘उन्होंने अपने जज्बे, सोच और अनुशासन का शानदार नमूना पेश किया। ऑफ स्टंप से बाहर जाती गेंदों का सही आंकलन और शॉट के चयन में उन्होंने अनुशासन दिखाया। हमने इस पारी में सतर्कता और आक्रामकता का अच्छा मिश्रण देखा। इस पारी में बल्लेबाजी का एक और पहलू देखने को मिला। उन्होंने हमें दिखाया कि पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ खेलते हुए किस तरह की बल्लेबाजी करनी चाहिए। कुल मिलाकर उनकी तरफ से यह संतोषजनक प्रयास रहा।’’