hardik pandya remembers 2018 injury against pakistan stretcher and asia cup 2022 match
hardik pandya

दुबई: भारत ने रविवार को एशिया कप के मुकाबले में पाकिस्तान को पांच विकेट से हरा दिया। भारत के सामने 148 रन का लक्ष्य था जो उसने दो गेंद बाकी रहते हासिल कर लिया। भारत की इस जीत में हार्दिक पंड्या की भूमिका काफी अहम रही। इस स्टार ऑलराउंडर ने पहले गेंदबाजी और बल्लेबाजी में कमाल करते हुए भारत को जीत दिलवाई। हार्दिक ने पहले 25 रन देकर तीन विकेट लिए और इसके बाद 17 गेंद पर 33 रन बनाकर भारत को जीत दिला दी। भारत की जीत के बाद हर ओर हार्दिक की तारीफ हो रही है। और साथ ही दुबई के इसी मैदान पर चार साल पहले की तस्वीर को भी याद किया जा रहा है।

चार साल पहले 2018 में एशिया कप के ही मुकाबले में दुबई के इसी मैदान पर हार्दिक पंड्या की एक दूसरी तरह की तस्वीर नजर आई थी। तब हार्दिक को स्ट्रेचर पर लिटाकर मैदान से बाहर ले जाया गया था। हार्दिक ने खुद उस मुकाबले की तस्वीर साझा की है। उन्होंने इंग्लिश में कैप्शन दिया है- Comeback is greater than setback. यानी वापसी हमेशा बाधाओं से बड़ी होती है।

उन्होंने बीसीसीआई.टीवी पर पोस्ट किए गए वीडियो में जडेजा से बात करते हुए कहा, ‘सात रन मुझे बहुत ज्यादा नहीं लग रहे थे और मैं बाएं हाथ के स्पिनर (मोहम्मद नवाज) और पांच खिलाड़ियों के सर्किल से बाहर होने को लेकर भी परेशान नहीं था। परिस्थिति कैसी भी रहती मुझे लंबा शॉट खेलना था। पूरी पारी में मैंने केवल उसी समय अपनी भावनाएं व्यक्त की जब आप (जडेजा) आउट हो गए थे।’

हार्दिक ने कहा, ‘मुझ पर किसी तरह का दबाव नहीं था। मेरे हिसाब से उस पर (नवाज) अधिक दबाव था। मैं केवल उसके गलती करने का इंतजार कर रहा था। आप जितने बेहतर तरीके से दबाव से पार पाते हैं उतने ही सफल रहते हैं।’

जहां तक गेंदबाजी का सवाल है तो पंड्या जानते हैं कि उन्हें बीच-बीच में शार्ट पिच गेंद करनी होगी ताकि बल्लेबाज कोई गलती करें।

पंड्या ने कहा, ‘गेंदबाजी में परिस्थितियों का आकलन करना और उसके अनुसार गेंदबाजी करना महत्वपूर्ण होता है। गेंदबाजी में मेरा मजबूत पक्ष शॉर्ट पिच गेंदबाजी और सही लेंथ पर गेंदबाजी करना है। यह इनका अच्छी तरह से उपयोग करना और बल्लेबाज को गलतियां करने के लिए मजबूर करने से जुड़ा है।’

गौरतलब है कि हार्दिक ने लंबे समय तक चोट से जूझने के बाद इस साल आईपीएल में दमदार वापसी की। उन्होंने न सिर्फ बल्लेबाजी में नई भूमिका निभाई थी वहीं काफी समय बाद वह गेंदबाजी भी करते हुए दिखाई दिए थे। हार्दिक ने धीरे-धीरे अपनी गेंदबाजी की लय हासिल कर ली है। पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले में भी वह लगातार 140 किलोमीटर प्रति घंटे के करीब की रफ्तार से गेंदबाजी करते हुए नजर आए।