Hardik Pandya: Staying out of Team India helped a lot
हार्दिक पांड्या (BCCI)

हार्दिक पांड्या का मानना है कि हर कोई झटकों से सीखता है और वो भी इसका अपवाद नहीं है और क्रिकेट से कुछ समय दूर रहने से उन्हें अपने खेल और मानसिकता पर काम करने का समय मिला जिसका फायदा आईपीएल में मिल रहा है।

एक टीवी चैट शो पर महिला विरोधी टिप्पणी के कारण हार्दिक और भारतीय सलामी बल्लेबाज केएल राहुल को बीसीसीआई ने सस्पेंड किया था और उनके खिलाफ जांच के आदेश दिए थे। बीसीसीआई लोकपाल अभी भी मामले की जांच कर रहा है हालांकि उसे क्लीन चिट मिलने की उम्मीद है।

न्यूजीलैंड में वापसी के बाद से पांड्या ने अपने खेल पर फोकस किया और आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिये 191 की औसत से 186 रन बना चुके हैं। उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर पर मिली जीत के बाद कहा, ‘‘हर किसी को कोई झटका लगता है और मुझे इससे अपने शरीर पर काम करने का मौका मिला। इससे काफी मदद मिली और अब सब कुछ ठीक लग रहा है।’’

ये भी पढ़ें: मलिंगा का 4-विकेट हॉल, डिविलियर्स-हार्दिक की शानदार पारियां

मुंबई इंडियंस के लिए फिनिशर की भूमिका निभाने के बारे में पांड्या ने कहा, ‘‘मैं चार साल से ऐसा कर रहा हूं। टीम में मेरी यही भूमिका है। नेट पर भी मैं इसका अभ्यास करता हूं। ये हालात की बात है, आप हालात के अनुरूप खेलते हैं।’’ विश्व कप में भी वो अहम भूमिका निभायेंगे और इसकी तैयारी आईपीएल के जरिए हो रही है। उन्होंने कहा, ‘‘आपको आत्मविश्वास रखना होगा। विश्व कप बड़ा टूर्नामेंट है। पहली बार मैं विश्व कप खेल रहा हूं और मुझे लय कायम रखनी होगी। मैं खेल से कुछ समय बाहर था तो वापिस आकर लय हासिल करना जरूरी था।’’