Hardik Pandya wanted to prove a point to himself than anyone else, says Rohit Sharma
रोहित शर्मा, हार्दिक पांड्या (BCCI)

बैंगलुरू के खिलाफ मैच में 37 रनों की धमाकेदार पारी खेलकर ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पांड्या ने मुंबई इंडियंस को एक और रोमांचक मैच जिताया। पांड्या अब तक खेले 8 मैचो में कुल 186 रन बना चुके हैं और मुंबई को कई मुश्किल मैच जिताए। हार्दिक के बारे में मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा का कहना है कि वो अपने आप को साबित करने के लिए खेल रहे हैं लेकिन किसी और को दिखाने के लिए नहीं।

बैंगलुरू के खिलाफ मैच के बाद रोहित ने कहा, “हार्दिक की बल्लबेबाजी टीम के साथ साथ उसे आगे ले जाने में उसकी मदद भी कर रही है। ये ऐसा है जो वो करना चाहता है क्योकि आईपीएल में आने से पहले उसे ज्यादा समय नहीं मिला था। इसलिए वो बल्ले और गेंद से कुछ साबित करना चाहता है, किसी और को नहीं बल्कि अपने आपको। जिस तरह से वो बल्लेबाजी कर रहा है, उससे हमें आत्मविश्वास मिलता है कि कोई ऐसा है जो आखिर में बड़े शॉट लगाकर हमें मुश्किल मैचों में जीत दिला सकता है।”

पांड्या के साथ साथ कप्तान रोहित ने मैन ऑफ द मैच रहे लसिथ मलिंगा की भी तारीफ की। 35 साल के मलिंगा ने बैंगलुरू के खिलाफ मैच में चार विकेट झटके। कप्तान ने कहा, “लसिथ का प्रदर्शन हमारे लिए काफी अहम है। हमने कुछ मैचों के लिए उन्हें मिस किया। उनकी फॉर्म मुंबई के लिए जरूरी है। मेरा विश्वास करें, उसने इतने सालों में जो किया है, वानखेड़े में डेथ ओवर में गेंदबाजी करना उतना आसान नहीं है। आरसीबी को 170 के करीब रोकने का श्रेय गेंदबाजों को जाना चाहिए।”

ये भी पढ़ें: मलिंगा का 4-विकेट हॉल, डिविलियर्स-हार्दिक की शानदार पारियां

वानखेड़े मैदान पर इस सीजन अब तक पांच मैच खेले गए हैं। जिसमे से केवल एक मैच दोपहर में खेला गया, जबकि बाकी सारे मैच रात आठ बजे से शुरू हुए, जब खेल में ओस का असर साफ दिखा। पिछले दो मैचों की बात करें तो राजस्थान के खिलाफ पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई हार गई थी, जबकि पंजाब के खिलाफ इसी मैदान पर लक्ष्य का पीछा करते हुए उन्हें जीत हासिल हुई थी लेकिन बैंगलुरू के खिलाफ मैच में चेज काफी मुश्किल रही।

इससे कप्तान रोहित भी परेशान हैं। उन्होंने कहा, “इस सीजन मैं अब तक पिच को समझ नहीं पाया हूं। आमतौर पर लक्ष्य का पीछा करना सुरक्षित होता है लेकिन किसी को उम्मीद नहीं थी कि पिच ऐसा करेगी। अगर पिच ऐसी रहेगी तो मैं चेज नहीं करना चाहूंगा।”