गुजरात टाइटंस (Gujrat Titans) के 2022 के इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2022) में शानदार प्रदर्शन के साथ हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) की कप्तानी का कौशल सभी के साथ अच्छा संवाद करना एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. इसलिए ये आश्चर्य की बात नहीं है कि ईडन गार्डन्स में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ क्वालीफायर 1 मैच में गुजरात के क्रिकेट निदेशक विक्रम सोलंकी (Vikram Solanki) ने स्वीकार किया कि पांड्या की कप्तानी ने टीम की सफलता में एक बड़ी भूमिका निभाई है.

सोलंकी ने प्री-मैच वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा पांड्या ने कप्तानी को बहुत अच्छी तरह से निभाया है. उन्होंने चीजों में वक्त दिया है. साथ ही खिलाड़ियों के साथ अच्छा तालमेल भी बिठाया है, जिससे वे आपस में एक-दूसरे को अच्छे से समझ सकें.

शुभमन गिल और रिद्धिमान साहा के रूप में गुजरात को एक भरोसेमंद सलामी जोड़ी मिली है, जो पावर-प्ले में आक्रामक रही है. सोलंकी ने इस सुझाव को खारिज कर दिया कि विशेष रूप से गिल और साहा की सलामी जोड़ी पक्ष के लिए कमजोर बिंदु है, जिसमें उन्होंने 49 गेंदों में नाबाद 63 रन का हवाला दिया और लखनऊ सुपर जायंट्स के खिलाफ पुणे की कठिन पिच पर पारी के माध्यम से अपने बल्ले को आगे बढ़ाया.

मैं इससे असहमत हूं क्योंकि शुभमन और ऋद्धि द्वारा बनाई गई साझेदारी हमारे लिए बहुत अच्छी रही है. आप शुभमन के प्रदर्शन के बारे में जो कह रहे हैं, वह मेरे अनुसार गलत है. शुभमन ने अपने दम पर कई मैच जीताए हैं. आप एलएसजी के खिलाफ मैच देख सकते हैं, जिस तरह से उन्होंने अपनी पारी को संभाला और पूरी पारी को नियंत्रित किया, उन्होंने हमें एक बचाव योग्य स्कोर बनाने का मौका दिया, जिससे टीम मैच जीत सके.

बैक-टू-बैक विकेट खोना भी कुछ ऐसा था जिसे पांड्या ने कहा था कि वे अपने अंतिम लीग मैच में बैंगलोर से गुजरात की हार के बाद प्लेऑफ में बचना चाहेंगे.

बैक-टू-बैक विकेटों से बचने के लिए बल्लेबाजी समूह के साथ उनकी चर्चा के बारे में पूछे जाने पर सोलंकी ने कहा, “यह एक अच्छा सवाल है. लेकिन यह सभी उम्र में एक आम धारणा है कि विकेट खोने का कोई मूल्य नहीं है. जब से क्रिकेट चला है, ये बात तो पक्की है की अगर आप विकेट न गंवाए तो आप बेहतर स्थिति में हैं. अगर आप किसी समूह में विकेट गंवाते हैं, तो आप हमेशा खुद को दबाव में रखते हैं.”