Here’s how the World Test Championship Points Table standings look after the final match ENG v IND
icc

ICC World Test Championship Points Table : जॉनी बेयरस्टॉ और जो रूट ने बेहतरीन शतकीय पारियों के दम पर इंग्लैंड को टेस्ट क्रिकेट में उसके सबसे बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए सात विकेट से जीत दिलाई और भारत के खिलाफ पांच मैचों की सीरीज 2-2 से बराबर की। इस तरह इंग्लैंड लगातार चौथे टेस्ट की चौथी पारी में 250 रन से अधिक का लक्ष्य हासिल करने वाली दुनिया की पहली टीम बन गई। इस मैच से पहले इंग्लिश टीम ने तीन बार न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले महीने 3-0 से जीती सीरीज में 277, 299, 296 रन का टारगेट हासिल किया था।

वहीं, भारत की साउथ अफ्रीका से दो मैच हारने के बाद यह लगातार तीसरी हार है। इस हार की हैट्रिक के साथ वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) पाइंट्स टेबल में टॉप 2 में रहने की भारत की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है। यही नहीं, पाकिस्तान ने भारत को एक पायदान नीचे धकेलते हुए तीसरे पायदान पर कब्जा कर लिया है।

दरअसल, एजबेस्टन टेस्ट में भारत को स्लो ओवर रेट का बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ा है। टीम इंडिया पर ICC  ने बड़ा जुर्माना लगाने के साथ-साथ वर्ल्ड टेस्ट चैंपयिनशिप (ICC World Test Championship) में पॉइंट्स भी काट दिए हैं। इससे पाकिस्तान की टीम भारत को एक पायदान नीचे धकेलते हुए चौथे से तीसरे पायदान पर जा पहुंची है।

WTC की पाइंट्स टेबल में पहले नंबर पर ऑस्ट्रेलिया काबिज है। दूसरे स्थान पर साउथ अफ्रीका का कब्जा है। और अब तीसरे स्थान पर पाकिस्तान ने अपना नाम लिखवा लिया है। टेबल में टॉप पर काबिज ऑस्ट्रेलिया ने अभी तक 9 मैच खेले हैं और 6 में जीत हासिल की है। वहीं, 3 मैच ड्रॉ रहे। इस तरह ऑस्ट्रेलियाई टीम 84 अंक के साथ टॉप पर बना हुआ है। दूसरे पायदान पर काबिज साउथ अफ्रीका के नाम 7 मैचों में से 5 जीत और 2 हार के बाद 60 अंक हैं। भारत को 12 मैचों में से 6 में जीत और 4 हार नसीब हुई जबकि 2 मैच ड्रॉ रहे। भारत के नाम अब 75 अंक है।

पाकिस्तान के पास पाइंट्स भले ही 44 हो लेकिन जीत प्रतिशत उसका भारत से ज्यादा है। यही वजह है कि पाइंट्स कम होने के बावजूद पाकिस्तान की टीम भारत से एक पायदान ऊपर है। पाकिस्तान के पास 7 मैचों में से 3 में जीत, 2 में हार और 2 ड्रॉ के साथ 44 अंक है। हालांकि पाकिस्तान का जीत प्रतिशत 52.38 और भारत का जीत प्रतिशत 52.08 है।

भारत को अब 2 टेस्ट सीरीज खेलनी है जिसमें एक घर में और एक विदेश में होनी है। भारतीय टीम बांग्लादेश का दौरा करेगी और फिर ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी करेगी। दोनों ही सीरीज में भारत का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। अगर भारत दोनों सीरीज पर कब्जा करने में सफल होता है तो उसका वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने का रास्ता आसान हो जाएगा।