Hope Rishabh Pant’s fate will not be like Parthiv Patel, saya Syed Kirmani
पार्थिव पटेल, ऋषभ पंत © Getty Images

भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज सैयद किरमानी का मानना है कि युवा ऋषभ पंत को घरेलू क्रिकेट में ज्यादा खेलने देना चाहिए। किरमानी का मानना है कि हज 17 बरस की उम्र में राष्ट्रीय टीम में आने की बाद पार्थिव पटेल को जो हश्र हुआ वैसा कुछ पंत के साथ नहीं होना चाहिए। पार्थिव ने 2002 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था लेकिन पटेल ने 16 साल के करियर में केवल 65 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं।

किरमानी ने पीटीआई से बातचीत में कहा, ‘‘हर कोई सचिन तेंदुलकर नहीं है जो 16 साल की उम्र में सफल हो जाए। हर कोई ऐसा खिलाड़ी नहीं है। पार्थिव को इतनी जल्दी नहीं राष्ट्रीय टीम में नहीं उतारना चाहिए था। ऋषभ प्रतिभाशाली है लेकिन उसे अपनी प्रतिभा को पूरी तरह तराशना चाहिए। उसका हश्र पार्थिव की तरह नहीं होना चाहिए।’’ पंत को महेंद्र सिंह धोनी के बाद सीमित फॉर्मेट में भारत का अगले विकेटकीपर माना जा रहा है। भारतीय टीम के लिए खेले पिछले चार टी20 मैचों में पंत अपने प्रदर्शन से समीक्षकों को प्रभावित नहीं कर सके है।

किरमानी ने कहा, ‘‘वनडे क्रिकेट के दबदबे और जॉन राइट के भारत का कोच बनने के बाद नतीजा सबसे अहम हो गया और तकनीक हाशिये पर चली गई। विकेटकीपरों को कोई मार्गदर्शन नहीं मिल सका और अचानक ऐसे बल्लेबाजों की जरूरत पड़ गई जो थोड़ी बहुत विकेटकीपिंग भी कर लेते हों।’’

पार्थिव को बहुत जल्दी सीधे अंडर-19 टीम से राष्ट्रीय टीम में शामिल कर लिया। ऐसा कभी नहीं होना चाहिए। पार्थिव को संघर्ष करना पड़ा क्योंकि वो तैयार नहीं था। अनुभव की कमी की वजह से उसे संघर्ष करना पड़ा और वो पीछे छूटने लगा। इसलिए में घरेलू क्रिकेट में खिलाड़ियों को तैयार करने पर जोर देता हूं। पंत और संजू सैमसन को जल्दी टीम में शामिल ना किया जाय। मैं चाहता हूं कि वो पहले प्रथम श्रेणी क्रिकेट में फिटनेस और तकनीक को बरकरार रखते हुए लंबे समय तक निरंतरता दिखाए।”

धोनी की जगह लेने के लिए दिनेश कार्तिक पहली पसंद

निदास ट्रॉफी 2018, तीसरा टी20: कुसल परेरा ने जड़ा धमाकेदार अर्धशतक; बांग्लादेश के सामने 215 रनों का लक्ष्य
निदास ट्रॉफी 2018, तीसरा टी20: कुसल परेरा ने जड़ा धमाकेदार अर्धशतक; बांग्लादेश के सामने 215 रनों का लक्ष्य

किरमानी का मानना है कि धोनी के संन्यास लेने पर दिनेश कार्तिक को उनकी जगह लेनी चाहिए। उन्होंने कहा, “मुझे अब भी लगता है कि धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर सही नहीं किया। विराट को अब भी उनके मार्गदर्शन क जरूरत है और साथ ही अगली पीढ़ी उनसे टेस्ट क्रिकेट की मुश्किलों के बारे में और भी सीख सकती थी। लेकिन जहां तक वनडे और टी20 का सवाल है मेरी पंसद दिनेश कार्तिक है। वो एक अच्छा बल्लेबाज है, सुरक्षित विकेटकीपर है और अच्छा फील्डर भी है। मेरे लिए वो ऑलराउंडर है। टेस्ट क्रिकेट में ऋद्धिमान साहा, पार्थिव और शायद कार्तिक में से एक को चुना जा सकता है। ये उनकी फॉर्म और फिटनेस पर निर्भर करेगा।”

धोनी टीम इंडिया के लिए अहम संपत्ति हैं

किरमानी भी धोनी की बल्लेबाज को लेकर लगाकार चर्चा से खुश नहीं हैं। उनका कहना है कि, “विराट कोहली को छोड़कर मुझे ऐसा कोई बल्लेबाज दिखाएं, जिसने पांच सालों में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया हो। मुझे नहीं लगता कि ऐसा कोई है। विराट अलग लीग का खिलाड़ी है। तो फिर केवल धोनी पर सवाल क्यों उठ रहे हैं? भूलिए मत कि उसने 15 साल तक नतीजे दिए हैं। वो टीम के लिए अहम है।”