How did India’s World Cup 15 perform in IPL, Vijay shankar, kuldeep yadav and Dinesh karthik
Vijay Shankar, Dinesh Karthik and Hardik Pandya @IANS

आईसीसी विश्व कप के लिए चुनी गई भारतीय टीम के खिलाड़ियों के नाम को लेकर काफी चर्चा की गई। विजय शंकर और दिनेश कार्तिक का नाम सबसे ज्यादा सामने आया। इंडियन प्रीमियर लीग में शंकर कुछ खास नहीं कर पाए जबकि कार्तिक का प्रदर्शन भी औसत ही रहा।

शंकर ने हैदराबाद की तरफ से 15 मैचों में 20.33 की औसत से 244 रन बनाए और उनका सर्वाधिक स्कोर नाबाद 40 रन रहा। शंकर अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने में नाकाम रहे। गेंदबाज के रूप में उन्हें केवल पांच मैचों में आठ ओवर करने का मौका मिला जिसमें उन्होंने 70 रन देकर एक विकेट लिया।

पढ़ें:- विश्व कप से पहले फॉर्म में लौटे राहुल-पांड्या; वार्नर ने बजाई खतरे की घंटी

विश्व कप टीम के चयन के समय चयनकर्ताओं ने अंबाती रायडू पर शंकर को तरजीह दी थी जबकि रिषभ पंत की जगह कार्तिक को 15 सदस्यीय टीम में शामिल किया था। पंत ने आईपीएल में बीच बीच में कुछ दिलकश पारियां खेली लेकिन कार्तिक 14 मैचों में 253 रन ही बना पाए। इसके विपरीत पंत ने 16 मैचों में 488 रन बनाए।

पढ़ें:- भारतीय टीम संतुलित लेकिन विश्व कप का कोई प्रबल दावेदार नहीं: रोड्स

विश्व कप से पहले भारत के लिए चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप की फॉर्म चिंता का विषय होगी जिन्होंने नौ मैचों में 71.50 की औसत से केवल चार विकेट लिए। कुलदीप को विकेट लेने वाला गेंदबाज माना जाता है लेकिन इस क्षेत्र में ही वह असफल रहे जिसके कारण वह केकेआर के बाद के मैचों में टीम में जगह नहीं बना पाए।

इसके विपरीत कुलदीप के साथी लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने प्रभावित किया और बैंगलुरू की तरफ से 14 मैचों में 18 विकेट लिए। विश्व कप टीम में शामिल तीसरे स्पिनर रविंद्र जडेजा ने 16 मैचों में 15 विकेट लेकर अपनी विकेट लेने की क्षमता दिखाई।

भारतीय तेज गेंदबाजों में जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी ने दिखाया कि वे विश्व कप में भी गेंदबाजी के अगुआ रहेंगे। बुमराह ने 16 मैचों में 19 और शमी ने 14 मैचों में 19 विकेट लिए। इन दोनों ने अपने प्रदर्शन में निरंतरता बनाए रखी। भुवनेश्वर कुमार ने 15 मैचों में 13 विकेट लिए जबकि हार्दिक पांड्या ने डेथ ओवर्स की धुआंधार बल्लेबाजी के दम पर 402 रन बनाने के अलावा 14 विकेट लेकर खुद को अदद ऑलराउंडर साबित किया।

बल्लेबाजों में रोहित शर्मा (15 मैचों में 405 रन) अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने के लिये अक्सर जूझते रहे। उन्होंने केवल दो अर्धशतक जमाये। उनके साथी सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने 16 मैचों में 521 रन बनाकर खुद को लय में बनाये रखा।

केएल राहुल ने हालांकि खुद को चौथे नंबर के लिए मजबूत दावेदार बना दिया। उन्होंने 14 मैचों में 53.90 की औसत से 593 रन बनाए। कप्तान विराट कोहली (14 मैचों में 464) और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (15 मैचों में 416) फिर से टीम के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज बने रहेंगे।