© Getty Images
© Getty Images

टीम इंडिया के विस्फोटक ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या का नाम इन दिनों हर क्रिकेट फैन और पूर्व खिलाड़ियों की जुबान पर है। वो इसलिए क्योंकि हार्दिक पांड्या अपनी गेंदबाजी के साथ साथ अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से सुर्खियों में छाए हुए हैं। पांड्या जब भी मैदान पर बल्ला लेकर उतरते हैं तो लंबे लंबे छक्के लगने की गारंटी होती है। पांड्या अबतक अपनी 28 अंतर्राष्ट्रीय पारियों में 40 छक्के जड़ चुके हैं। यही नहीं पांड्या जब एक बार छक्के लगाने के मूड में आते हैं तो वो लगातार गेंद को बाउंड्री पार पहुंचाते हैं। पांड्या अपने छोटे से करियर में 4 बार छक्कों की हैट्रिक लगा चुके हैं। क्या आप जानते हैं कि पांड्या छक्के इतने आसानी से कैसे लगा लेते हैं? कैसे वो ‘सिक्स मशीन’ बनते जा रहे हैं?

दरअसल पांड्या की छक्के लगाने की काबिलियत के पीछे उनकी टाइमिंग के साथ-साथ उनकी ताकत भी है। पांड्या जिम में घंटों मेहनत करते हैं और अपनी बाजुओं की ताकत को बढ़ाते हैं। पांड्या ज्यादातर फ्री वेट वर्क आउट करते हैं। वो अपने हाथों और कंधों को मजबूत करने की एक्सरसाइज करते हुए नजर आते हैं। यही वजह है कि उनके छक्कों की दूरी काफी ज्यादा होती है। मजबूत कंधे उन्हें तेज गेंदबाजी में भी मदद देते हैं, इसलिए उनकी रफ्तार 140 किमी. प्रति घंटा से भी ज्यादा रहती है। ये भी पढ़ें: टीम इंडिया की जीत में बड़ा ‘रोल’ अदा कर रहे हैं स्टीवन स्मिथ !

वैसे पांड्या का कहना है कि वो बचपन से ही लंबे-लंबे छक्के लगाते थे। पांड्या ने अपनी क्लीन हिटिंग पर बयान दिया, ‘मैं बचपन से ही सिक्स लगा रहा हूं। मैं सकारात्मक सोच के साथ शॉट खेलता हूं और मुझे खुद पर भरोसा रहता है। अगर मुझे लगता है कि छक्के लगाने चाहिए तो मैं खेल को समझता हूं और फिर लंबे शॉट खेलता हूं।’