एस श्रीसंत © Getty Images
एस श्रीसंत © Getty Images

एस श्रीसंत टीम इंडिया में वापसी को लेकर अपनी नजरें गड़ाए हुए हैं। लेकिन इसके पहले वह अपने राज्य की टीम केरल के साथ घरेलू क्रिकेट में वापसी करना चाहते हैं। पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज श्रीसंत पिछले कुछ दिनों से रामजी श्रीनिवासन की देख रेख में चेन्नई में ट्रेनिंग कर रहे हैं। गौरतलब है कि श्रीसंत को साल 2013 में स्पॉट फिक्सिंग स्कैंडल के बाद बीसीसीआई ने बैन कर दिया था, उन्हें बाद में केरल हाईकोर्ट ने चुनौती दी थी लेकिन बोर्ड ने कोर्ट के निर्णय को चुनौती दी थी।

श्रीसंत ने टाइम्स ऑफ इंडिया के हवाले से कहा, “सुनवाई आने वाले दिनों में होगी और मुझे आशा है कि निर्णय मेरे पक्ष में ही आएगा। खेलने के लिए जब मुझे जरूरी मंजूरी मिल जाएगी, तो मैं गेंदबाजी करने की बेहतर स्थिति में होउंगा। रामजी सर और उनकी टीम को मुझे मार्गदर्शन देने के लिए शुक्रिया और ट्रेनिंग की सुविधाएं मुहैया कराने के लिए श्री राम चंद्र मेडिकल कॉलेज का भी शुक्रिया।”

[ये भी पढ़ें: धमाल मचाने के लिए तैयार है नयन मोंगिया का बेटा]

श्रीसंत का पहला लक्ष्य है कि वह रणजी ट्रॉफी में केरल की ओर से खेलें। उन्होंने कहा, “मैं केरल के चौथे रणजी गेम को लक्ष्य बना रहा हूं। उन्होंने हाल ही अपना पहला मैच जीता है और यह अच्छा संकेत है। अगर वे क्वार्टफाइनल जीतते हुए आगे जाते हैं, तो ये बेहतरीन होगा। मैं रणजी ट्रॉफी जीतने वाली केरल टीम का सदस्य बनना पसंद करूंगा।” भले ही पिछले 4-5 सालों से श्रीसंत क्रिकेट से दूर रहे हों लेकिन उन्होंने टीम में वापसी को लेकर अपनी उम्मीदें नहीं छोड़ी हैं।

श्रीसंत ने कहा, “अगर लिएंडर पेस 44 साल की उम्र में ग्रैंड स्लैम खेल सकते हैं और नारायन कार्तिकेयन 40 साल की उम्र में रेस में भाग लेते हैं और वे इसमें खासे सफल भी रहे हैं, इसलिए मुझे कोई कारण नहीं मालूम पड़ता कि मैं क्यों 34 साल की उम्र में नहीं खेल सकता। वे लोग मेरी प्रेरणा हैं क्योंकि उन्होंने हमारे जैसे लोगों के द्वारा लक्ष्य प्राप्त करने के लिए मानक निर्धारित किए हैं। अगर मैं टीम इंडिया में वापसी करने में सफल रहता हूं तो यह जबरदस्त वापसी होगी।”