चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में भारत और चेन्नई के बीच खेले जा रहे सीरीज के दूसरे टेस्ट की टर्निंग पिच कई पूर्व दिग्गजों की आलोचना का निशाना बन गई है। जिसमें सबसे आगे है पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन (Michael Vaughan), जिन्होंने चेपॉक की इस पिच को टेस्ट क्रिकेट के लायक नहीं बताया। जिसके बाद भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने पूर्व क्रिकेटर को जवाब दिया।

इस पिच पर 29वां टेस्ट पांच विकेट हॉल लेने वाले अश्विन ने कहा है कि वो इस बात से अवगत नहीं हैं कि पिच को लेकर इंग्लैंड के खिलाड़ियों के पास किसी तरह की कोई शिकायत है। उन्होंने कहा, “अगर इसे लेकर उनके पास कोई शिकायत है तो मुझे इसकी जानकारी नहीं है। खिलाड़ी जब इस तरह की परिस्थितियों का सामना करते हैं तो ऐसी चीजें स्वभाविक होती है। ईमानदारी से कहूं तो इस पिच पर सात दिन खेले हैं और इंग्लैंड ने हमें कड़ी टक्कर दी है।”

उन्होंने कहा कि तेज गेंदबाजों को मदद मिलने वाली पिचों पर खेलना ज्यादा चुनौतीपूर्ण होता है। अश्विन ने कहा, “चाहे आप स्पिन अनुकूल या फिर तेज गेंदबाजों के अनुकूल पिचों पर खेलें समय दर समय ये अधिक चुनौतीपूर्ण होगी। अगर गेंद 140-50 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से आती है तो इसे खेलना अधिक चुनौतीपूर्ण होता है। आप अपना समय लीजिए और इसका सामना कीजिए।”

भारतीय आफ स्पिनर ने कहा कि स्पिन की मददगार वाली पिचों पर बल्लेबाजों को रन बनाने की उम्मीद ज्यादा होती है। अश्विन ने कहा, “मुझे लगता है कि जब आप तेज गेंदबाजों की मदद वाली पिचों पर खेलते हैं तो आपको धर्य रखना होता है। शुरुआत में आपको संयम बरतना पड़ता है और फिर आप बोर्ड पर रन लगा सकते हैं।”