×

'मैंने कॉफी ऑर्डर की थी, लेकिन...' अक्षर पटेल ने हंसते-हंसते बताया दिल का 'दर्द'

अक्षर पटेल ने बताया कि जब दिल्ली की टीम बैटिंग कर रही थी तो उन्होंने कॉफी ऑर्डर की थी. लेकिन वह उस कॉफी को पी नहीं पाए. आखिर ऐसे कैसे हालात बन गए कि पटेल की कॉफी वहीं रह गई.

axar-patel

axar-patel

जब 8वें ओवर की शुरुआत हुई उस समय दिल्ली कैपिटल्स का स्कोर था दो विकेट के नुकसान पर 57 रन. सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ सोमवार को इस मुकाबले में दिल्ली के लिए लॉन्च पैड तैयार हो चुका था. अक्षर पटेल गर्मागर्म कॉफी पीन की तैयारी कर रहे थे. उन्होंने कॉफी ऑर्डर की और मैच देखने में मसरूफ हो गए. लेकिन इससे पहले कि वह कॉफी का घूंट ढंग से भर पाते हालात बदल गए थे. कॉफी छोड़ उन्हें बल्ला थामना पड़ा. वॉशिंग्टन सुंदर ने एक ही ओवर में दिल्ली कैपिटल्स के तीन विकेट चटकाकर मैच का पासा पलट दिया था.

अक्षर ने 34 गेंद पर 34 रन बनाए और मनीष पांडे के साथ मिलकर करीब 10 ओवर बल्लेबाजी की. दोनों के बीच छठे विकेट के लिए 69 रन की साझेदारी हुई.

इस पार्टनरशिप ने दिल्ली के स्कोर को 144 रन तक पहुंचने में मदद की. और अंत में सनराइजर्स के लिए यह स्कोर काफी रहा और दिल्ली ने मुकाबला सात रन से अपने नाम किया.

मैच के बाद प्रजेंटेशन के दौरान अक्षर ने कहा, ‘मुझे अहसास ही नहीं हुआ कि आखिर हो क्या रहा है. मैंने कॉफी ऑर्डर ही की थी और मुझे मेरा कप छोड़कर आना पड़ा क्योंकि एक ही ओवर में तीन विकेट गिर गए थे. तो मुझे भागकर सीधा बल्लेबाजी करने आना पड़ा.’

उन्होंने कहा, ‘एक बार जब मैं बल्लेबाजी करने गया तो मुझे समझ में आया कि आखिर हो क्या रहा है. मनीष पांडे और मैं वहां क्रीज पर थे. फिर पांडे ने कहा जितना लंबा हो सके बैटिंग करनी है क्योंकि जितने ज्यादा वक्त तक हम बैटिंग करेंगे उतने ज्यादा रन हम बना पाएंगे. और हम कुछ चुनौती पेश कर पाएंगे.’

और फिर उस कॉफी के कप का क्या हुआ? इस पर उन्होंने हंसते हुए कहा, ‘हां, वह कॉफ का कप वहीं मेरे बैंग के पास पड़ा रहा.’

अक्षर ने गेंदबाजी में भी कमाल किया. दिल्ली के पास ज्यादा स्कोर नहीं था बचाव के लिए लेकिन उसके गेंदबाजों ने सनराइजर्स के लिए वह स्कोर भी मुश्किल कर दिया. अक्षर ने गेंदबाजी में 21 रन देकर दो विकेट अपने नाम किए. उन्होंने मंयक अग्रवाल (49) और हैदराबाद के कप्तान एडिन मार्करम (3) के विकेट लिए.

अक्षर ने अपनी बल्लेबाजी की तारीफ की. उन्होंने कहा कि इसी की वजह से वह गेंद से भी कुछ प्रदर्शन कर पाए. अक्षर ने पिच को धीमी बताया. उन्होंने कहा कि गेंद इस पर फंसकर आ रही थी.

उन्होंने कहा, ‘पिच थोड़ी धीमी थी. गेंद इस पर रुककर आ रही थी. कुलदीप यादव और मैंने दिल्ली की पिच पर भी पार्टनरशिप में गेंदबाजी की है, तो जब मैं बैटिंग कर रहा था तो मेरे जेहन में यही चल रहा था कि मैं और कुलदीप इस पिच पर बल्लेबाजों को फंसा सकते हैं. तो जितने ज्यादा रन मैं बना सकूं हमारे लिए उतना ज्यादा अच्छा होगा. और यही हमारा प्लान था और जिस तरह से मैंने और कुलदीप ने गेंदबाजी की, हमें काफी मजा आया.’

trending this week