युवा महिला क्रिकेटर जेमिमा रॉड्रिग्स ने बहुत कम समय में अपना स्थान भारतीय क्रिकेट टीम में पक्का किया है. बड़े-बड़े शॉट लगाने में माहिर इस बल्लेबाज की नजर अब आगामी टी-20 वर्ल्ड कप पर है. वह इस समय आईसीसी के इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट की जमकर तैयारी कर रही हैं.

दमखम की कमी को पूरा करने के लिए ओपनर जेमिमा अपने बल्ले की रफ्तार बढ़ाने पर मेहनत कर रही हैं ताकि महिला टी-20 विश्व कप में बड़े शॉट लगा सकें.

‘मैं अपने बैकफुट पर काम कर रही हूं और अपने बल्ले की रफ्तार बढ़ाने की भी कोशिश कर रही हूं’

अगले महीने ऑस्ट्रेलिया में होने वाले विश्व कप से पहले उनका लक्ष्य बैकफुट पर अपनी बल्लेबाजी को बेहतर करना भी है.

उन्होंने ‘रोड टू द टी-20 विश्व कप’ के तहत कहा ,‘मैं अपने बैकफुट पर काम कर रही हूं और अपने बल्ले की रफ्तार बढ़ाने की भी कोशिश कर रही हूं  आप मेरी कद काठी देखकर अनुमान लगा सकते हैं कि मेरे भीतर छक्के लगाने की ताकत नहीं है लेकिन मैं इस पर काम कर रही हूं.’

भारतीय टीम 21 फरवरी को ऑस्ट्रेलिया से सिडनी में पहला मैच खेलेगी

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 2018 में पदार्पण करने के बाद से वह लगातार अच्छा प्रदर्शन करती आई हैं. भारतीय टीम 21 फरवरी को ऑस्ट्रेलिया से सिडनी में पहला मैच खेलेगी. रॉड्रिग्स ने कहा कि उनकी टीम को मेजबान के खिलाफ मानसिक रूप से मजबूत होना पड़ेगा.

उन्होंने कहा, ‘ऑस्ट्रेलिया में आपको अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा. वह उसी तरह की टीम है और मेरी पसंदीदा भी. यह कौशल से ज्यादा दिमाग का मुकाबला है.’ विश्व कप से पहले भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ 31 जनवरी से ट्राई सीरीज खेलेगी.

भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में अच्छी तादाद में दर्शकों के आने की उम्मीद है. रॉड्रिग्ज ने कहा,‘हम जहां भी जाते हैं, भारतीय समर्थकों और प्रशंसकों के रहते घर से दूर महसूस नहीं होता. उम्मीद है कि वहां भी ऐसा ही होगा.’ रॉड्रिग्स भारत के लिए 34 टी-20 और 16 वनडे इंटरनेशनल मैच खेल चुकी हैं.