पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir) ने पिछले साल अचानक टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर सभी को हैरान कर दिया। साल 2010 से स्पॉट फिक्सिंग मामले में पांच साल का बैन झेलने के बाद वापसी करने के बाद आमिर सभी फॉर्मेट में अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन 2019 वनडे विश्व कप के बाद टेस्ट फॉर्मेट छोड़ने का फैसला किया। लेकिन उन्होंने अब अपने इस फैसले के पीछे का असली कारण बताया है।

द नेशनल वेबसाइट से बातचीत में आमिर ने कहा, “हर किसी का अपना मत है। मुझे अपने शरीर के बारे में सबसे अच्छे तरीके से पता है। मुझे लग रहा था कि मेरा शरीर जरूरत से ज्यादा काम कर रहा है। मैं उसे मैनेज नहीं कर पा रहा था। अपने करियर को आगे बढ़ाने के लिए, मुझे फैसला लेना ही था, जिसे मेरे परिवार का समर्थन मिला। मैं पहले से बेहतर महसूस कर रहा हूं और नतीजे साफ दिख रहे हैं।”

27 साल के पाक खिलाड़ी ने कहा, “पांच साल का अंतर एक खिलाड़ी के लिए काफी ज्यादा होता है। जब मैं वापस आया, मैं सभी फॉर्मेट में लगातार तीन साल तक खेलता रहा। थकान तो होनी ही थी, खासकर कि तेज गेंदबाजों के लिए। लेकिन अब मैं बेहतर महसूस कर रहा हूं। जब आपका ध्यान एक चीज पर होता है और आप मानसिक, शारीरिक तौर पर तरोताजा महसूस करते हैं, आप हमेशा बेहतर प्रदर्शन करते हैं।”

Coronavirus का कहर: सर्रे काउंटी क्‍लब के छह खिलाड़ियों को टीम से किया गया अलग

जुलाई 2009 में पाकिस्तान के लिए टेस्ट डेब्यू करने वाले आमिर ने अपने करियर में खेले 36 टेस्ट मैचों में 119 विकेट लिए हैं। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 11 जनवरी 2019 को जोहान्सबर्ग के खिलाफ खेला गया मैच आमिर के करियर का आखिरी टेस्ट मैच था।