भारत के पूर्व विस्फोटक ओपनिंग बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने जब इंटरनेशनल क्रिकेट में अपने पांव जमाए थे, तब उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) से खूब होती थी. सहवाग हमेशा से ही मास्टर ब्लास्टर को अपना आदर्श मानते आए हैं और उन्होंने कई मौकों पर कहा है कि वह इस जीनियस बल्लेबाज की तरह शॉट खेलना पसंद करता था. बुधवार को उन्होंने बताया कि वह 1992 वर्ल्ड कप से सचिन को टीवी पर खेलते देख रहे हैं और तभी से उनके शॉट कॉपी करने की कोशिश खूब करते थे.

सहवाग ने कहा, ‘क्रिकेट मैदान पर खेला जाता है लेकिन वीडियो देखकर काफी कुछ सीखा जा सकता है. यदि मैं अपना उदाहरण दूं तो मैने 1992 वर्ल्ड कप से क्रिकेट देखना शुरू किया और उस समय मैं सचिन की बल्लेबाजी देखकर उनकी नकल करने का प्रयास करता था.’

42 वर्षीय इस पूर्व ओपनिंग बल्लेबाज ने कहा, ‘वह कैसे स्ट्रेट ड्राइव लगाते थे या बैकफुट पंच मारते थे. मैने 1992 में टीवी पर देखकर काफी कुछ सीखा.’

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और सहवाग के साथ क्रिकगुरू ऐप के सह संस्थापक संजय बांगड़ (Sanjay Bangar) ने ऐप के लॉन्च के मौके पर कहा, ‘आजकल के समय में आपके पास अपने पसंदीदा क्रिकेटरों के वीडियो हैं. मसलन एबी डिविलियर्स, ब्रायन लारा, क्रिस गेल या वीरेंद्र सहवाग या कोई और. हमारे समय में वीडियो उपलब्ध नहीं थे.’

सहवाग ने कहा, ‘हमारे समय में ऐसी सुविधाएं नहीं थी कि किसी से ऑनलाइन बात करके या वीडियो सबस्क्राइब करके सीखा जा सके. अगर ऐसा होता तो मैं जरूर करता और बेहतर सीख पाता.’

खेल के मानसिक और तकनीकी दोनों पहलुओं पर जोर देते हुए सहवाग ने कहा, ‘मानसिक पहलू अहम है और हमने उसी को ध्यान में रखकर यह ऐप लांच किया है. इसके बाद हम क्रिकेट की तकनीक पर बात करेंगे.’

(इनपुट: भाषा)