शिखर धवन © Getty Images
शिखर धवन © Getty Images

भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन बेहतरीन फॉर्म में चल रहे हैं। चैंपियंस ट्रॉफी से लेकर वेस्टइंडीज दौरे तक धवन के बल्ले से जमकर रन निकल रहे हैं। धवन ने हाल ही में अपने वनडे डेब्यू को याद किया और माना कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू के दौरान वो घबराए हुए थे। धवन ने कहा, ”ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जब मैं अपने डेब्यू के दौरान बल्लेबाजी के लिए उतरा तो मैं घबराया हुआ था। मैं शांति से बल्लेबाजी करना चाहता था, लेकिन मेरे बल्ले से चौके निकल रहे थे। मैं समझ गया था कि मेरा शरीर डिफेंसिव (रक्षात्मक) खेलने के लिए मेरा साथ नहीं दे रहा था।” ये भी पढ़ें: लाइव शो के दौरान आपस में भिड़ गए ऑस्ट्रेलिया के 2 क्रिकेटर

धवन ने आगे कहा, ”मैंने फिर आक्रामक क्रिकेट खेलने की सोची और मैंने विश्व रिुकॉर्ड बना दिया।” जब धवन से स्लेजिंग (छींटाकशी) के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ”मुझे उस दिन ऐसी किसी घटना के बारे में याद नहीं है। मैं अपनी क्रिकेट खेल रहा था, लेकिन हम जानते थे कि ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी स्लेजिंग के लिए मशहूर हैं। मैंने जब कवर ड्राइव खेला तो माइकल क्लार्क ने गेंद को रोक लिया और काफी तेजी से उन्होंने विकेटकीपर को गेंद वापस की। इसके बाद मैंने फिर से वही शॉट खेला और इस बार क्लार्क गेंद को रोक नहीं पाए।”

धवन ने शेन वॉटसन के साथ वाकये को याद करते हुए कहा, ”ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हम मैच खेल रहे थे। वॉटसन गेंदबाजी करा रहे थे। वॉटसन की एक गेंद मेरी कमर में लगी। इसपर वो मेरे पाए आए और उन्होंने मुझसे कहा, कि दर्द का मजा आया। मुझे उसका बुरा लगा। उसके बाद जब भी मैं मैदान पर आता तो मैं ऐसा कुछ कहता जिससे उन्हें बुरा लगता लेकिन मेरा मानना है कि क्रिकेट के खेल में सब कुछ जायज है।” आपको बता दें कि धवन शानदार फॉर्म में चल रहे हैं। धवन ने भारत के लिए अब तक 85 वनडे मैचों में कुल 3,585 रन बनाए हैं। इस दौरान धवन के बल्ले से 10 शतक और 21 अर्धशतक निकले हैं।