सरफराज अहमद © Getty Images
सरफराज अहमद © Getty Images

पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद ने कहा है कि पिछले हफ्ते उनको एक सटोरिए द्वारा दिए गए फिक्सिंग के ऑफर के बारे पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को बताने के बाद वो काफी परेशान हो गए थे और डरे हुए भी थे। शनिवार को इस मामले का खुलासा होने के बाद उम्मीद के मुताबिक पाकिस्तान की मीडिया में इसकी बहुत चर्चा हुई। मामले की तुरंत जानकारी देने के लिए सरफराज की तारीफ की गई लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट में फिक्सिंग की घटनाओं को देखते हुए इस खबर ने क्रिकेट जगत में खलबली भी मचाई।

श्रीलंका के खिलाफ पहले टी-20 मैच से पहले सरफराज ने इस घटना के बारे में पहली बार बात करते हुए कहा कि इस घटना के बारे में बोर्ड को बताकर वो चिंतामुक्त महसूस कर रहे थे लेकिन टीवी पर इस बारे में लगातार होने वाली चर्चाओं से वो डरे हुए थे। सरफराज ने कहा, ‘जो होना था वो हो गया और मैंने वही किया जो मुझे करना चाहिए था। मैं इस घटना के बारे में जानकारी देने के बाद डरा हुआ नहीं था। लेकिन, खुद को टीवी पर देखने के बाद मैं डर गया। मेरे बारे में टीवी पर इतनी चर्चा की गई कि मुझे डर लगने लगा। अल्लाह के करम से सब कुछ सामान्य हो रहा है।’

फाइनल से पहले टीम इंडिया पर चढ़ा 'भगवा रंग'!
फाइनल से पहले टीम इंडिया पर चढ़ा 'भगवा रंग'!

सरफराज ने कहा, ‘जब आप एक सीरीज खेलने जाते हैं तब आपको सामान्य रहना पड़ता है और अबतक सब कुछ सही चल रहा है।’ पाकिस्तान के मुख्य कोच मिकी आर्थर ने कहा था, ‘ईमानदारी से कहूं तो खिलाड़ी (सरफराज) ने घटना के बाद बेहद शानदार प्रतिक्रिया दी और वह सब किया जो उन्हें करना चाहिए था। उस घटना के बाद हम दोनों ने एक दूसरे से सीधे बात की। स्थिति को बहुत अच्छे तरीके से संभाला गया और मैं समझता हूं कि यह विश्व क्रिकेट और हमारी टीम के लिए एक बहुत अच्छा उदहारण है।’