I was trying to be Australian captain rather than being myself: Tim Paine
Tim Paine

ऑस्ट्रेलिया टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन के सामने भारत की मुश्किल चुनौती है। इस टेस्ट सीरीज को पेन के लिए काफी अहम माना जा रहा है। पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट सीरीज गंवाने के बाद उनसे वनडे टीम की कप्तानी छीन ली गई अब टेस्ट कप्तानी पर भी तलवार लटक रही है।

कंगारू टेस्ट कप्तान टिम पेन ने कहा है कि वह खुद को भूलकर ऑस्ट्रेलिया के कप्तान बनने की कोशिश कर रहे थे। पेन को बॉल टैंपरिंग में दोषी करार दिए गए स्टीव स्मिथ की जगह ऑसट्रेलिया का कप्तान बनाया गया था। वनडे और टेस्ट दोनों टीम की कमान संभाल रहे पेन की कप्तानी में इंग्लैंड में करारी शिकस्त मिली थी। पेन के प्रदर्शन को देखते हुए उनकी जगह वनडे टीम की कप्तानी एरोन फिंच को दे दी गई।

‘मिशेल मार्श की नहीं बनती टीम में जगह, ट्रेविस हेड को मिले मौका’

कप्तानी जाने के बाद उन्होंने बयान में कहा था कि उनको पता था वनडे की कप्तानी उनके पास ज्यादा दिन नहीं रहने वाली अगर वह प्रदर्शन नहीं करेंगे। टिम पेन ने क्रिकइंफो से बात करते से कहा,  ”बतौर ऑस्ट्रेलिया कप्तान इंग्लैंड का मेरा पहला दौरा था। मैं एक पैमाना तय करने की कोशिश में थे। अच्छा प्रदर्शन करने के लिए शायद मैंने कुछ ज्यादा कर दिया और बहुत सारी चीजें आजमाने लगा। अपने आप को आजादी नहीं दे पाया जिससे की अपनी काबिलियत को खुलकर दिखा सकूं।”

”बहुत ज्यादा ट्रेनिंग और बहुत ज्यादा सोचने की वजह से मैं मानसिक और शारीरिक तौर पर काफी थक गया था। मैंने अपने आप को भूल ऑस्ट्रेलिया की कप्तान बनने की कुछ ज्यादा ही कोशिश की। एक कप्तान और खिलाड़ी के तौर पर मेरे लिए सबसे अहम कि मैं जैसा हूं वैसा रहूं। अगर मैं अपने बर्ताव में थोड़ा बहुत बदलाव लाउं, ज्यादा ट्रेनिंग या कुछ ज्यादा करन की कोशिश करूं तो कोच मेरी कंथे पर हाथ रख देते हैं।”

कोहली को एक-एक रन कमाने पर मजबूर करें: जेसन गिलेस्पी

”कई बार ऐसा होता है जब आप लगातार मेहनत में लगे रहते हैं और आराम करना भूल जाते हैं। मेरे और कोच के बीच काफी अच्छा रिश्ता है और मैंने दूसरे लोगों को भी मुझपर नजर रखने को कह रखा है। खेल को जारी रखने के लिए जरूरी होता है खुद को ताजा रखा जाए और खेल के लिए तैयार हो सके।”