ए बी डीविलियर्स © Getty Images
ए बी डीविलियर्स © Getty Images

चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले में ए बी डीविलियर्स के हाथों वो काम हो गया जो उन्होंने अपने करियर में कभी नहीं किया था। ए बी डीविलियर्स पहली बार अपने वनडे करियर में गोल्डन डक पर आउट हुए। मतलब ए बी डीविलियर्स पहली बार वनडे में पहली ही गेंद पर शून्य पर पैवेलियन लौट गए। 211 पारियों में 54.08 के औसत से रन बनाने वाले द.अफ्रीकी कप्तान 212वीं पारी में पहली ही गेंद पर आउट हो गए। पाकिस्तान के स्पिनर इमाद वसीम ने डीविलियर्स को पैवेलियन भेजा।

कैसे आउट हुए डीविलियर्स?

क्विंटन डी कॉक के पैवेलियन लौटने के बाद कप्तान ए बी डीविलियर्स ने क्रीज पर कदम रखा। द.अफ्रीकी टीम को अपने कप्तान से उम्मीद थी कि वो दो विकेट गिरने के बाद टीम को संभालेंगे लेकिन ऐसा हुआ नहीं। ए बी डीविलियर्स बाएं हाथ के स्पिनर इमाद वसीम की पहली ही गेंद पर आउट हो गए। इमाद वसीम ने डीविलियर्स को ऑफ स्टंप के बाहर गेंद डाली जिसपर उन्होंने तेज ड्राइव खेलने की कोशिश की। डीविलियर्स की ये कोशिश नाकाम साबित हुई क्योंकि गेंद बल्ले का किनारा लेकर प्वाइंट में खड़े मोहम्मद हफीज के हाथों में समा गई।  ये भी पढ़ें-कोच मुद्दे पर अपने बयान से पलटे शेन वॉर्न, मीडिया को सुनाई खरी-खोटी!

डीविलियर्स पहली बार गोल्डन डक पर आउट हुए। आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में गोल्डन डक पर आउट होने वाले वो चौथे कप्तान हैं। डीविलियर्स से पहले सनथ जयसूर्या, रिचर्ड स्टेपल, हबीबुल बशर भी पहली ही गेंद पर आउट हो चुके हैं। आपको बता दें आईसीसी टूर्नामेंट में डीविलियर्स छठी बार शून्य पर आउट हुए हैं। वनडे करियर में 7वीं बार डीविलियर्स शून्य पर आउट हुए हैं।