हसन अली ने इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में 3 विकेट लिए © Getty Images
हसन अली ने इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में 3 विकेट लिए © Getty Images

पाकिस्तानी खिलाड़ियों की अंग्रेजी के हाल सभी जानते हैं, अक्सर की मैच के पहले या बाद में मीडिया से बातचीत के दौरान उन्हें काफी मुश्किल होती हैं लेकिन अब पाक टीम ने इसका हल खोज लिया है। इंग्लैंड के खिलाफ मैच में पाकिस्तान की जीत के नायक रहे हसन अली हसन को मैन ऑफ द मैच का खिताब दिया गया लेकिन इस अवॉर्ड ने अली की मुसीबतें बढ़ा दी। दरअसल हसन अली की अंग्रेजी उतनी अच्छी नहीं है और जब वह अपना अवॉर्ड लेने नासिर हुसैन के पास पहुंचे तो उन्होंने हसन से अंग्रेजी में सवाल पूछने शुरू कर दिए लेकिन हसन इसके लिए पहले से ही तैयार थे। हसन अपने साथ पाक टीम के एक अधिकारी लेकर आए जो उनके लिए नासिर के सवालों का अनुवाद कर सके, ताकि हसन सवाल समझकर उसका जवाब दे सकें। इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम को आठ विकेट से हरा पाकिस्ताान टीम पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पहुंची है।

अली ने हर सवाल का जवाब हिंदी में ही दिया और पाक अधिकारी ने उनके जवाब को अनुवादित कर हुसैन को बताया। ये देखने में काफी अजीब लग रहा था लेकिन अगर हसन खुद अंग्रेजी बोलते तो यकीनन वह ज्यादा अजीब होता। अधिकतर पाकिस्तानी खिलाड़ियों की अंग्रेजी खास अच्छी नहीं है इस वजह से प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान भी उन्हें काफी परेशानी होती है। मैच से पहले पाक टीम के कप्तान सरफराज अहमद की प्रेस कॉन्फ्रेंस का एक वीडियो वायरल हुआ थे। इस वीडियो में सभी अंग्रेजी पत्रकारों को देखकर सरफराज कहते हैं कि ‘सब अंग्रेजी वाले हैं’। [ये भी पढ़ें: चैंपियंस ट्रॉफी: दूसरे सेमीफाइनल में भारत जीतेगी फाइनल की टिकट या बांग्लादेश करेगी उलटफेर]

पाकिस्तानी खिलाड़ियों की अंग्रेजी चाहे जितनी भी खराब हो लेकिन चैंपियंस ट्रॉफी में उनके खेल ने सभी को प्रभावित किया है। पहले मैच में 124 रनों से हारने के बाद, पहली बार फाइनल में पहुंचने तक उन्होंने एक लंबा सफर तय किया है। इंग्लैंड जैसी दिग्गज टीम को सेमीफाइनल में हराकर पाक टीम ने साबित कर दिया है कि आंकड़ें और पिछले रिकॉर्ड से मैच पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ता, जो भी अच्छी क्रिकेट खेलता है जीत उसी की होती है।