इंग्लैंड टीम  © Getty Images
इंग्लैंड टीम © Getty Images

किसी भी बल्लेबाज के लिए शून्य पर आउट होना काफी निराशाजनक होता है खासकर की जब वह किसी बड़े टूर्नामेंट में खेल रहा हो। अगर चैंपियंस ट्रॉफी की बात करें तो इस टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉटसन ने सबसे ज्यादा चार बार शून्य पर आउट होने का रिकॉर्ड बनाया है। वहीं मौजूदा टीमों में तीन ऐसे खिलाड़ी हैं जो इस सीजन में वॉटसन का ये रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं। इंग्लैंड के जोस बटलर और स्टुअर्ट ब्रॉड अब तक चैंपियंस ट्रॉफी में दो-दो बार शून्य पर आउट हो चुके हैं। ब्रॉड जहां 2009 से 2013 तक दो चैंपियंस ट्रॉफी में खेले आठ मैचों में दो बार डक पर आउट हुए हैं, वहीं बटलर ने 2013 में अपनी पहली चैंपियंस ट्रॉफी में ही ये कारनामा कर दिखाया।

इस फेहरिस्त में पाकिस्तान के गेंदबाज जुनैद खान भी शामिल हैं। जुनैद ने भी 2013 में अपनी पहली चैंपियंस ट्रॉफी खेली थी और इस दौरान खेले तीन मैचों में वह दो बार शून्य पर आउट हुए। हालांकि इस मामले में भारतीय खिलाड़ी भाग्यशाली रहे हैं। इस सूची में केवल एक ही भारतीय खिलाड़ी दिनेश मोंगिया का नाम हैं। मोंगिया 2002 से 2006 के बीच खेली तीन चैंपियंस ट्रॉफी में कुल दो बार शून्य पर आउट हुए। वहीं बांग्लादेश के हबीबुल बशन, न्यूजीलैंड के नथन एस्टल, पाकिस्तान के शोएब मलिक और श्रीलंका के सनथ जयसूर्या चैंपियंस ट्रॉफी में 3-3 बार शून्य पर आउट हुए हैं। [ये भी पढ़ें: भारत बनाम बांग्लादेश, अभ्यास मैच का लाइव स्कोरकार्ड]

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का पहला मैच इंग्लैंड और बांग्लादेश के बीच ओवल में खेला जाएगा। इंग्लैंड ने हाल ही में साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों के वनडे सीरीज 2-1 से जीती है।