ICC Cricket World Cup 2019, India vs New Zealand, 1st Semi-Final, Preview: India ready to face unseen New Zeland

आईसीसी विश्व कप-2019 में अब तक सिर्फ एक ही मैच में इंग्लैंड के खिलाफ हारी भारतीय टीम सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड का सामना करेगी। गौरतलब है कि दोनों टीमें पूरे टूर्नामेंट में एक दूसरे के खिलाफ एक भी मैच नहीं खेल पाई हैं। ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर खेले जाने वाले इस विश्व कप के पहले सेमीफाइनल में भारत और न्यूजीलैंड मंगलवार को भिड़ेंगी।

विश्व कप शुरू होने से पहले भारत ने 25 मई को न्यूजीलैंड के खिलाफ अभ्यास मैच जरूर खेला था, जहां टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा था। दोनों टीमों के बीच होने वाला लीग मैच बारिश के कारण धुल गया था, लेकिन किस्मत इन दोनों को एक बार फिर आमने-सामने ले आई है वो भी सेमीफाइनल में।

भारत को शुरू से खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा था वहीं कीवी टीम ने लगातार अच्छे प्रदर्शन से सभी की नजरें अपनी तरफ आकर्षित की हैं। बड़े टूर्नामेंट में अधिकतर न्यूजीलैंड ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है और इस बार भी वो सेमीफाइनल में जगह बनाने में सफल रही है। एक समय तो वो अंकतालिका में पहले स्थान पर थी। बाद में कुछ मैचों में हार के बाद उसे लीग दौर का अंत चौथे स्थान पर रहकर करना पड़ा।

दबाव के बावजूद श्रीलंका टीम का कोच बने रहना चाहते हैं चंडिका हथुरूसिंघा

पहले सेमीफाइनल में हालांकि कीवी टीम को भारत के खिलाफ अपनी पूरी ताकत से खेलना होगा क्योंकि भारतीय टीम बेहतरीन फॉर्म में है और उसे सिर्फ एक मैच में ही हार का सामना करना पड़ा है वो भी बर्मिंघम में इंग्लैंड के खिलाफ जब वो 300 से ज्यादा के लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाई थी। हां, सवाल एक बार फिर यही है कि क्या विकेट बल्लेबाजों के लिए स्वर्ग है?

फिर भी यहां मंगलवार को बारिश की भविष्यवाणी है। हो सकता है कि यहां हल्की फुल्की बारिश हो लेकिन ऐसी स्थिति में कीवी टीम का गेंदबाजी अटैक काफी खतरनाक हो जाता है। ट्रेंट बोल्ट, लोकी फर्ग्यूसन, टिम साउदी और कॉलिन डी ग्रांडहोम ऐसी स्थिति में किसी भी बल्लेबाजी को परेशान कर सकते हैं।

‘चोटिल क्रिकेटरों की कमी महसूस नहीं होने देंगे वैकल्पिक खिलाड़ी’

कीवी टीम के लिए हालांकि फर्ग्यूसन की फिटनेस चर्चा का विषय है। टीम को हालांकि विश्वास है कि वो मैच से पहले फिट हो जाएंगे। कप्तान केन विलियमसन ने स्वीकार किया है कि वो फर्ग्यूसन पर काफी विश्वास करते हैं।

वहीं विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम चाहेगी कि आसमान साफ रहे। टीम ने अपनी बल्लेबाजी को लेकर चिंता सार्वजनिक नहीं की है लेकिन साफ तौर पर देखा गया है कि कोहली, रोहित शर्मा और केएल राहुल से सज्जित शीर्ष क्रम ने ही भारत के लिए रन किए हैं और जब मध्य क्रम के टीम को संभालने की बारी आई तो वो असफल रहा।

रोहित ने इस टूर्नामेंट में आठ पारियों में 647 रन बनाए हैं और पांच शतक लगाए हैं। उनके बाद कप्तान कोहली का नंबर है जिन्होंने पांच अर्धशतक के साथ 447 रन बनाए हैं। तीसरे नंबर पर राहुल हैं जिनके नाम 360 रन हैं। दिलचस्प बात ये है कि इस सूची में अगला नाम महेंद्र सिंह धोनी का है जिन्होंने 223 रन बनाए हैं।

‘चोटिल क्रिकेटरों की कमी महसूस नहीं होने देंगे वैकल्पिक खिलाड़ी’

ये साफ है कि जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार और भारतीय स्पिनरों ने दम दिखाया है लेकिन मध्य क्रम को आगे आना होगा। श्रीलंका के खिलाफ खेले गए पिछले मैच में टीम ने स्पिन में कुलदीप यादव और रवींद्र जडेजा पर भरोसा दिखाया था। अब देखना होगा कि क्या टीम मैनेजमेंट इसी संयोजन के साथ जाता है या इसमें बदलाव करता है।

इस मैच में हालांकि काफी कुछ विकेट और मौसम पर भी निर्भर है। अगर बादल छाते हैं तो हो सकता है कि भारत सिर्फ एक स्पिनर के साथ खेले और मयंक अग्रवाल को शामिल कर अपनी बल्लेबाजी मजबूत करे।


भारत: विराट कोहली (कप्तान), जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल, रिषभ पंत, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, केदार जाधव, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पांड्या, केएल राहुल, मोहम्मद शमी, रोहित शर्मा, कुलदीप यादव।

न्यूजीलैंड : केन विलियमसन (कप्तान), टॉम ब्लंडल, ट्रेंट बोल्ट, कोलिन डी ग्रांडहोम, लॉकी फर्ग्यूसन, मार्टिन गुप्टिल, टॉम लेथम, कॉलिन मनुरो, जिमी नीशम, हेनरी निकोलस, मिशेल सैंटनर, ईश सोढी, टिम साउदी, रॉस टेलर।