© Getty Images
© Getty Images

दुबई में हाल ही में हुई आईसीसी और दुनियाभर के क्रिकेट बोर्ड के बीच अहम बैठक हुई। इस बैठक में टेस्ट चैंपियनशिप पर एक बड़ा फैसला लिया गया। बैठक में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप पर चर्चा की गई और फैसला लिया गया कि अब ये चैंपियनशिप 4 साल की बजाए 2 साल तक चलेगी। पहले ये तय हुआ था के चैंपियनशिप 4 साल तक चलेगी। बैठक में सभी क्रिकेट बोर्ड ने इसपर अपनी सहमति जताई और सर्वसम्मति से ये फैसला लिया गया। आईसीसी जल्द ही टेस्ट चैंपियनशिप में बदलाव का ऐलान करेगा। ये भी पढ़ें: शाहिद अफरीदी ने जड़ा पहला टी20 शतक, मारे छक्के ही छक्के

आईसीसी टेस्ट चैंपिनशिप में दुनिया की टॉप-9 टीमें हिस्सा ले सकेंगी और जिम्बाब्वे, अफगानिस्तान, आयरलैंड की टीमें इस टूर्नामेंट का हिस्सा नहीं होंगी। इसके अलावा टॉप-2 टीमें फाइनल में पहुंचेंगी और टेस्ट चैंपियनशिप का पहला फाइनल मुकाबला लॉर्ड्स के ऐतिहासिक स्टेडियम में खेला जाएगा। अगर सब कुछ तय समय पर चलता रहा तो आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप को साल 2019 के विश्व कप के बाद आयोजित करा सकता है।

टूर्नामेंट में सभी देशों को एक दूसरे के खिलाफ पहले अपनी मेजबानी और फिर दूसरे देश में जाकर खेलना होगा। 2 साल में जो भी टीम सबसे ज्यादा मैच जीतेगी और टॉप-2 में रहेगी उसे ही फाइनल खेलने का मौका मिलेगा। फाइनल मुकाबला लॉर्ड्स में खेला जाएगा। हालांकि अभी ये तय नहीं है कि प्वॉइंट किस आधार पर दिए जाएंगे लेकिन माना जा रहा है कि साल 2019 तक इस बारे में कोई फैसला ले लिया जाएगा। हालांकि इसमें ये भी समस्या है कि भारत और पाकिस्तान एक दूसरे के खिलाफ सीरीज नहीं खेलते हैं और ऐसे में अगर टेस्ट चैंपिनशिप में भी दोनों एक दूसरे के खिलाफ नहीं खेले तो आईसीसी क्या फैसला लेता है।