ICC faces sharp criticism for it’s bizarre rules during Centurion ODI
टीम इंडिया ने वनडे सीरीज में 2-0 से बढ़त बना ली है © AFP

सेंचुरियन वनडे में जब भारत को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जीत के लिए केवल दो रन चाहिए थे तभी लंच का ऐलान कर खेल को रोक दिया गया। जिसके बाद आईसीसी को अपने अजीबोगरीब नियमों के लिए हर तरफ से आलोचना का सामना करना पड़ा। दोनों मैदानी अंपायरों अलीम डार, एड्रियन होल्डस्टोक और मैच रेफरी एंडी पायक्राफ्ट की टीवी कमेंटेटरों और क्रिकेट विशेषज्ञों ने आलोचना की।

पहले बल्लेबाजी करते हुए दक्षिण अफ्रीका टीम 118 रन पर ऑल आउट हो गई। इसके बाद भारतीय टीम ने 19 ओवर में एक विकेट पर 117 रन बनाए, तभी अंपायरों ने आईसीसी नियमों के तहत लंच घोषित कर दिया। ये फैसला सभी को अजीब लगा क्योंकि अंपायरों ने पहले ही तीन ओवर और करने की अनुमति दे दी थी। जब लंच होना चाहिए था तब भारत ने 15 ओवर में एक विकेट पर 93 रन बनाए थे।

फैसले से खिलाड़ी, दर्शक और कमेंटेटर हैरान थे लेकिन अंपायर नियमों पर बने रहे जिसके कारण 40 मिनट के लंच ब्रेक के बाद फिर से भारतीय शुरू हुई और विराट कोहली ने दो रन बनाकर छह मैचों की सीरीज में 2-0 से बढ़त बनाई। वेस्टइंडीज के पूर्व दिग्गज माइकल होल्डिंग ने इस फैसले को हास्यास्पद करार दिया। उन्होंने कमेंट्री करते हुए कहा, ‘‘आईसीसी खेल को आकर्षक बनाना चाहते हैं लेकिन ये हास्यास्पद फैसला है। ’’

यहां तक कि कोई भी टीम इस फैसले से खुश नहीं दिखी तथा उस समय बल्लेबाजी कर रहे भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अंपायरों के सामने यह मसला उठाया लेकिन अंपायरों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने ट्विटर पर अंपायरों के फैसले का मजाक उड़ाया। उन्होंने मजाकिया अंदाज में लिखा, ‘‘अंपायर भारतीय बल्लेबाजों के साथ वैसा ही व्यवहार कर रहे हैं जैसे सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ग्राहकों के साथ करते हैं। लंच के बाद आना।’’