दुनिया भर में कोरोना वायरस के जोर पकड़ने के बाद सुरक्षित माहौल में क्रिकेट शुरू हुआ तो आईसीसी ने इस दौरान कई जरूरी नियमें में भी बदलाव किए. इनमें से एक था तटस्थ अंपायरिंग, जिसे कोरोना वायरस के चलते स्थगित करना पड़ा था और आईसीसी ने क्रिकेट बोर्डों को यह छूट दी थी कि वह अंतराष्ट्रीय मैचों के लिए सभी अंपायर अपने देश के रख सकता है. लेकिन अब आईसीसी ने न्यूट्रल यानी तटस्थ अंपायरों को वापस लाने की योजना पर काम शुरू कर दिया है.

आईसीसी के चेयरमैन ग्रेग बार्कले ने कहा कि क्रिकेट के मैदान पर जल्दी ही न्यूट्रल अंपायरों की वापसी होगी. हालांकि उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि वह फिलहाल इस संदर्भ में कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं करेंगे क्योंकि इस पर पहले ही संबंधित टीम काम कर रही है. लेकिन उन्होंने यह विश्वास दिलाया की जल्दी ही इस नई प्रणाली को लागू कर दिया जाएगा.

क्रिकेट वेबसाइट क्रिकबज में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, बार्कले ने कहा, ‘मुझे लगता है कि कोविड के दिनों में टेस्ट मैचों में घरेलू अंपायरों को अंपायरिंग करने का अच्छा खासा मौका दिया. इसने खाई को और चौड़ किया है. अगर आप आंकड़ों के देखें तो यह जान लेंगे कि इस बारे में काफी आलोचना हुई.’ उन्होंने साफ कहा कि घरेलू अंपायरों को अंपायरिंग सौंपने से उसके स्तर में गिरावट आई है.

उन्होंने कहा, ‘अब हम कोविड 19 से अलग दिशा में हैं और अब हम न्यूट्रल अंपायरों की की व्यवस्था करने की रूपरेखा तैयार कर रहे हैं. हमने यह दो सप्ताह पहले हुई बोर्ड मीटिंग में इस पर चर्चा की थी. अब हम मैदान पर जल्दी ही तटस्थ अंपायरों को मैदान पर देखेंगे. मैं फिलहाल आपको कोई तारीख नहीं बता सकता लेकिन बहुत जल्दी ऐसा होगा.