ICC will review the schedule of Test Championship due to Covid-19

कोविड-19 के कारण कई क्रिकेट सीरीज रद्द की गई हैं जिसका असर आईसीसी टेस्ट चैंपिशयनशिप के कार्यक्रम पर भी पड़ा है। आईसीसी अब टेस्ट चैंपिशयनशिप के कार्यक्रम की समीक्षा करने का सोच रही है।

आईसीसी के एक अधिकारी ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए एफटीपी (फ्यूचर टूर प्रोग्राम) पर काम करना होगा क्योंकि इसने कई देशों की बाईलैटरल सीरीज के आयोजन को लगभग असंभव कर दिया है। लेकिन ऐसा तभी किया जाएगा जब समझा जा सकेगा कि इस महामारी का पूरे एफटीपी पर क्या असर पड़ा है।

उन्होंने कहा, “इस समय तक तो कुछ भी नहीं बदला है। हम समझते हैं कि कितनी क्रिकेट बची हुई है और कब टी20 विश्व कप होना है। बिगड़े हुए एफटीपी को 2023 तक के लिए दोबारा देखना होगा और इसकी समीक्षा करनी होगी साथ ही ये ध्यान रखना होगा कि जितनी क्रिकेट इस कोविड-19 के कारण बर्बाद हुई उसमें से ज्यादा से ज्यादा की भरपाई कैसे की जाए।”

उन्होंने कहा, “जो क्रिकेट का नुकसान हुआ है उसका क्या प्रभाव पड़ा है, जब इस बात को लेकर गहरी समझ उतपन्न हो जाएगी तो विश्व टेस्ट चैंपिशयनशिप और आईसीसी पुरुष क्रिकेट विश्व कप सुपर लीग पर चर्चा और फैसला लिया जाएगा।”

कोरोनावायरस ने ली दिल्ली के पूर्व क्रिकेटर की जान

आईसीसी के बोर्ड सदस्य ने बताया आईसीसी की बैठक में इस बात को लेकर चर्चा जारी हुई थी कि जो टेस्ट मैच रद्द हुए हैं उनका टेस्ट चैंपिशयनशिप पर क्या प्रभाव पड़ेगा, लेकिन कैलेंडर पर दोबारा काम करना आसान नहीं होगा और इसमें समय लगेगा।

उन्होंने कहा, “आम राय से इतर टी-20 विश्व कप के अलावा अन्य मुद्दों पर भी चर्चा हुई थी। जैसा आप जानते हैं कि टेस्ट चैंपिशयनशिप सभी सदस्यों के काफी करीब है। आईसीसी कैलेंडर पर दोबारा काम करेगी और जो मैच नहीं हो पाएं हैं उन्हें शामिल करेगी या अंक प्रणाली में बदलाव होगा ये सभी फैसले अक्टूबर के आस-पास लिए जाएंगे क्योंकि अभी जो स्थिति है, आपके पास कोई ठोस प्लान नहीं हो सकता। कोरोनावायरस ने खेल को क्षति पहुंचाई है और आप इसके लिए किसी को दोष नहीं दे सकते।”

उन्होंने कहा, “फैसला जो भी होगा वो सभी सदस्यों की आम सहमति से होगा। इसमें कोई दो राय नहीं है कि पहली चैम्पियनशिप जल्दी से जल्दी खत्म होनी चाहिए। लेकिन साथ ही यह बात समझनी होगी की कैलेंडर दोबारा बनाने के लिए 2-3 महीने चाहिए होंगे क्योंकि अंत में टेस्ट मैच द्विपक्षीय सीरीज के तौर पर खेले जाएंगे।