ICC will try to satisfy BCCI with security arrangements, says Chief Shashank Manohar
Indian cricket team © IANS

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने हाल ही में आईसीसी को विश्व कप टूर्नामेंट में खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ की सुरक्षा को लेकर पत्र लिखा। आईसीसी सीईओ डेविड रिचर्डसन, चीफ शशांक मनोहर और कॉलिन ग्रेव्स को संबोधित किए गए इस पत्र में आतंकवाद को पनाह देने वाले देशों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की गई है।

आईसीसी चीफ मनोहर ने बीसीसीआई के पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए साफ कहा है खिलाड़ियों की सुरक्षा हमेशा से ही उनकी प्राथमिकता रही है। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में मनोहर ने कहा, “मुझे बीसीसीआई का पत्र मिला। सुरक्षा आईसीसी की प्राथमिकता थी और हमेशी रहेगी।” मनोहर ने बताया कि आईसीसी 2 मार्च को दुबई में होने वाली बैठक में बीसीसीआई से सीधी बातचीत करेगी।

ये भी पढ़ें:’‘श्रीलंका के खिलाफ सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर रही है दक्षिण अफ्रीका

उन्होंने आगे कहा, “जब आईसीसी बोर्ड के सदस्य 2 मार्च को दुबई में मिलेंगे, तब हम बीसीसीआई को विश्व कप के लिए बनाई गई अपनी सुरक्षा योजना दिखाएंगे। वो विश्व कप की तैयारियों को लेकर अपने आपको संतुष्ट कर सकते हैं। हर बोर्ड सदस्य को इसका अधिकार है। और जहां तक दूसरे मुद्दों की बात है, मैं बीसीसीआई का खत और उनकी परेशानियां आईसीसी बोर्ड के सामने पेश करूंगा।”

भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट के मुद्दे पर बंटे दिग्गज

बीसीसीआई की मुख्य समस्या विश्व कप में भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाला मैच है। 14 फरवरी को पुलवामा में हुई आतंकी हमने में 44 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद पाकिस्तान के खिलाफ क्रिकेट खेलने को लेकर देश में रोष है। हालांकि क्रिकेट दिग्गजों के राय इस मामले पर बंटी हुई है।

ये भी पढ़ें: जीत के बाद कप्तान होल्डर ने शेल्डन कॉटरेल को बताया ‘फ्यूचर स्टार’

पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर का कहना है कि विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ ना खेलना टीम इंडिया के लिए नुकसानदायक होगा। वहीं वीवीएस लक्ष्मण, हरभजन सिंह का कहना है कि सेना से बढ़कर देश के लिए और कुछ नहीं है।

भारतीय क्रिकेट दिग्गज सचिन तेंदुलकर ने इस मामले पर गावस्कर का साथ दिया है। तेंदुलकर चाहते हैं कि भारत पाकिस्तान के खिलाफ खेले और उन्हें एक बार फिर हराए। हालांकि तेंदुलकर ने ये भी कहा कि बोर्ड और सरकार जो भी फैसला लेंगे, वो उसे मान्य करेंगे।