ICC WORLD CUP 2019: Glenn Maxwell keen to control with the ball and finish with the bat
Glenn Maxwell@IANS

ऑस्ट्रेलिया के ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल की पहचान एक विस्फोटक बल्लेबाज के रूप में होती है। मैक्सवेल बल्लेबाजी के साथ ही गेंदबाजी से भी टीम के लिए उपयोगी साबित होना चाहते हैं। अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए मशहूर मैक्सवेल विश्व कप में अपनी अनियमित ऑफ स्पिन गेंदबाजी से ऑस्ट्रेलिया की जीत के सूत्रधार बनना चाहते हैं।

एरोन फिंच के कप्तान बनने के बाद से मैक्सवेल ने हर मैच में पांच ओवर औसतन डाले हैं। वहीं स्टीव स्मिथ की कप्तानी में उन्होंने औसतन 2 से 4 ओवर प्रति मैच डाले थे। उन्होंने भारत और यूएई दौरे पर तीन बार दस ओवर का कोटा भी पूरा किया।

पढ़ें:- ’’हमारे पास 11 में से 5 विश्व कप खिताब, एक और खिताब जीत सकते है’’

मैक्सवेल ने पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज के 5 मुकाबले में 35 ओवर की गेंदबाजी की थी। उन्होंने 175 रन देकर 3 विकेट हासिल किए थे। भारत के साथ वनडे सीरीज में मैक्सवेल ने 5 मुकाबलों में कुल 29 ओवर की गेंदबाजी की थी।

मैक्सवेल ने कहा ,‘‘मैंने दुबई और भारत में कुछ ओवर गेंदबाजी की। कुछ और ओवर डालकर लय बनाए रखना चाहता था। मैंने लंकाशर में काउंटी खेलते समय उसे कायम रखा।’’

पढ़ें:- हमें डेथ ओवर्स में विकेट लेने पर फोकस करने को कहा गया है- जाम्पा

उन्होंने कहा ,‘‘एक अनियमित गेंदबाज के पास लय होना जरूरी है। मैं रन रोकने के लिए गेंदबाजी करता हूं। ऐसे में विरोधी टीम पर दबाव आ जाता है। मैं दूसरे गेंदबाजों के सहायक की भूमिका निभाना चाहता हूं।’’

मैक्सवेल ने ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम में अपनी जगह फिर पाने के लिए आईपीएल छोड़कर काउंटी क्रिकेट खेला। उन्होंने कहा ,‘‘आईपीएल नहीं खेलना बड़ा फैसला था। लंबे समय में मैं अपनी पहचान दो बार विश्व कप जीतने वाले खिलाड़ी के रूप में बनाना चाहता हूं, अमीर खिलाड़ी के रूप में नहीं।’’