ICC WORLD TEST CHAMPIONSHIP: India’s Position at the top is Strong
Indian Cricket Team @IANS

इंटरनेशनल क्रिकेट परिषद (आईसीसी) कोविड-19 महामारी के कारण अधर में लटकी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) के मैच पूरे करवाने के लिए इसे चार महीने आगे खिसकाने और इसके कार्यक्रम में बदलाव करने पर विचार कर रही है लेकिन इससे भारत पर असर नहीं पड़ेगा और वह आगे भी इसमें अपनी मजबूत स्थिति बरकरार रख सकता है।

जोफ्रा आर्चर ने खोया अपना विश्व कप मेडल, ढूंढते-ढूंढते हुए पागल

भारत ने डब्ल्यूटीसी में अभी तक सर्वाधिक चार सीरीज खेली हैं जिसमें से तीन में उसने जीत दर्ज की। इससे उसके 360 अंक हैं और वह शीर्ष पर काबिज है। आस्ट्रेलिया तीन श्रृंखलाओं में 296 अंक लेकर दूसरे स्थान पर है जबकि न्यूजीलैंड (तीन सीरीज में 180) तीसरे, इंग्लैंड (दो श्रृंखलाओं में 146) चौथे और पाकिस्तान (दो सीरीज में 140) पांचवें स्थान पर है।

अंकतालिका में इनके बाद श्रीलंका (दो सीरीज में 80) और दक्षिण अफ्रीका (दो सीरीज में 24) का नंबर आता है। वेस्टइंडीज और बांग्लादेश ने डब्ल्यूटीसी के तहत एक-एक श्रृंखला खेली है और वे अभी तक खाता नहीं खोल पाए हैं।

नियम के मुताबकि एक टीम को 6 सीरीज खेलनी होती है 

आईसीसी के अनुसार डब्ल्यूटीसी के अंतर्गत किसी एक देश को छह सीरीज (तीन स्वदेश, तीन विदेश) खेलनी होती हैं। भारत दो सीरीज विदेश और दो स्वदेश में खेल चुका है। ये सभी सीरीज दो या तीन टेस्ट मैचों की थी जिनमें जीतने पर भारतीय टीम को पूरे अंक मिल गए।

एक सीरीज में अधिकतम 120 अंक हासिल किए जा सकते हैं 

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में एक सीरीज में अधिकतम 120 अंक हासिल किए जा सकते हैं। इस तरह से दो टेस्ट मैचों की सीरीज में एक मैच जीतने पर 60 अंक और तीन मैचों की सीरीज में एक मैच जीतने पर 40 अंक मिलते हैं। इसी तरह से चार और पांच मैचों की सीरीज में एक मैच जीतने पर अंकों की संख्या घटकर 30 और 24 हो जाती है।

मैच टाई होने पर दोनों टीमों में आधे आधे अंक बंट जाते हैं जबकि ड्रॉ होने पर दो से लेकर पांच मैचों की सीरीज में क्रमश: 20, 13, 10 और आठ अंक मिलते हैं।

पुजारा को गेंदबाजी करना सबसे मुश्किल, टेस्ट सीरीज में हमारे लिए सिरदर्द था ये बल्लेबाज: कमिंस

भारत ने डब्ल्यूटीसी के तहत अपनी पहली सीरीज वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली और उसने दोनों मैच जीतकर 120 अंक हासिल किए। विराट कोहली की टीम ने इसके बाद दक्षिण अफ्रीका को अपनी सरजमीं पर तीनों मैच में हराकर 120 अंक जुटाये और फिर बांग्लादेश की टीम जब भारत आयी तो श्रृंखला के दोनों मैच जीते। इस तरह से भारत के सात जीत से 360 अंक हो गये थे।

भारतीय टीम ने इस साल के शुरू में न्यूजीलैंड का दौरा किया लेकिन वहां उसने दोनों टेस्ट मैच गंवा दिये। इससे वह 360 अंक पर ही अटका रहा।

कोहली एंड कंपनी को अब भी 2 सीरीज खेलनी है 

कोहली की टीम को अभी डब्ल्यूटीसी के तहत दो श्रृंखलाएं खेलनी हैं। उसे इस साल के आखिर में ऑस्ट्रेलिया दौरे में चार टेस्ट मैच खेलने हैं। अगर भारत 2018-19 का अपना रिकार्ड बरकरार रखता है तो वह अपने अंकों में इजाफा कर सकता है। भारत ने ऑस्ट्रेलिया के पिछले दौरे में श्रृंखला 2-1 से जीती थी।

भारतीय टीम अगले साल जनवरी में पांच टेस्ट मैचों के लिये इंग्लैंड की मेजबानी करेगी। यह उसकी डब्ल्यूटीसी के तहत अंतिम श्रृंखला भी होगी। इंग्लैंड के लिये भारतीय सरजमीं पर खेलना आसान नहीं रहा है। इससे पहले उसकी टीम 2016 के आखिर में भारत दौरे पर आयी थी तब भारतीय टीम ने उसे पांच मैचों की श्रृंखला में 4-0 करारी शिकस्त दी थी।