ICC World Test Championship will add context to five-day game says Virat Kohli
Virat Kohli

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सोमवार को कहा कि एक अगस्त से शुरू हो रही आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप खेल के लंबे प्रारूप को प्रासंगिक बनाएगी।

टेस्ट चैंपियनशिप के पहले सत्र में ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और वेस्टइंडीज की नौ टीमें अगले दो साल में 27 सीरीज के 71 टेस्ट मैचों में खिताब के लिए भिड़ेंगी। टॉप दो टीमें इसके बाद लॉर्ड्स में जून 2021 में फाइनल मुकाबला खेलेंगी।

पढ़ें:- विराट-रोहित विवाद के बीच विंडीज दौरे से पहले टीम की प्रेस काफ्रेंस रद्द !

कोहली ने आईसीसी की विज्ञप्ति में कहा, ‘‘हम काफी उत्साह के साथ आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का इंतजार कर रहे हैं क्योंकि इस खेल के लंबे प्रारूप को प्रासंगिक बनाएगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘टेस्ट क्रिकेट काफी चुनौतीपूर्ण है और पारंपरिक प्रारूप में शीर्ष पर रहना हमेशा बेहद संतोषजनक होता है। भारतीय टीम ने हाल के वर्षों में शानदार काम किया है और चैंपियनशिप में उसके पास अच्छा मौका होगा।’’

प्रत्येक टीम तीन घरेलू सीरीज और तीन विरोधी के मैदान पर सीरीज खेलेगी और उसे प्रत्येक मैच के लिए अंक दिए जाएंगे। प्रत्येक सीरीज के 120 अंक होंगे जिन्हें सीरीज के मैचों के आधार पर बांटा जाएगा। उदाहरण के लिए दो मैचों की सीरीज का मतलब हुआ कि प्रत्येक मैच के 60 अंक होंगे जबकि तीन मैचों की सीरीज में प्रत्येक मैच के 40 अंक होंगे। टाई होने पर 50 प्रतिशत अंक उपलब्ध रहेंगे जबकि ड्रा पर अंकों का अनुपात 3:1 होगा।

इंग्लैंड के सबसे सफल टेस्ट गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने कहा, ‘‘टेस्ट क्रिकेट हमारे खेल का शिखर है। यह क्रिकेट का मूल है और अधिकांश खिलाड़ी खेल के इस प्रारूप में सफल होना चाहते हैं।’’

उन्होंने कहा ‘‘आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप खेल के लिए एक और शानदार पहल है जिससे प्रत्येक टेस्ट सीरीज प्रासंगिक बनेगी। प्रत्येक टेस्ट मायने रखता है लेकिन अब और अधिक मायने रखेगा।’’

प्रत्येक सीरीज में न्यूनतम दो से अधिकतम पांच मैच हो सकते हैं। पहली विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में सिर्फ पांच दिवसीय मैचों को शामिल किया जाएगा जिसमें दिन-रात्रि मैचों को भी जगह मिलेगी लेकिन यह विरोधी टीमों के बीच द्विपक्षीय और आपसी सहमति से हुए करार पर निर्भर करेगा।