If I get 20 minutes with Kohli I will be able to help him, says Sunil Gavaskar
Twitter

भारत के महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने कहा कि वह विराट कोहली को खराब फॉर्म से उबारने में मदद के लिए तैयार हैं। गावस्कर ने कहा कि उन्हें इस बात का अंदाजा है कि विराट की खराब फॉर्म के पीछे क्या कारण है। गावस्कर ने कहा कि उनकी सलाह कोहली को फॉर्म वापस हासिल करने में कारगर साबित हो सकती है।

इंग्लैंड में भारत द्वारा 2-1 वनडे सीरीज जीतने के एक दिन बाद इंडिया टुडे से बात करते हुए सुनील गावस्कर ने कहा कि उन्हें विराट कोहली के साथ चर्चा करने के लिए केवल 20 मिनट की जरूरत है, ताकि वो उनसे इस बात पर चर्चा कर सके कि कौन सी चीज स्टार बल्लेबाज की खराब फॉर्म का कारण बनी हुई है।

हाल के दिनों में विराट कोहली की तकनीक के बारे में बताते हुए गावस्कर ने कहा कि ऑफ स्टंप के बाहर की लाइन कोहली को परेशान कर रही है और फॉर्म में लौटने की चिंता उनके लिए चीजों को और भी बदतर बना रही है।

गावस्कर की ये टिप्पणी ऐसे समय आई है जब कोहली अपने करियर के सबसे खराब दौर से गुजर रहे हैं। स्टार बल्लेबाज ने हाल ही में समाप्त वनडे सीरीज के 2 मैचों में सिर्फ 33 रन बनाए। वहीं, 2T20I में उनके बल्ले से सिर्फ 12 रन आए। कोहली बर्मिंघम टेस्ट की दोनों पारियों में भी फ्लॉप रहे और सिर्फ 31 रन ही बना पाए।

गावस्कर ने इंडिया टुडे को बताया, “अगर मेरे पास उनके साथ बातचीत करने के लिए 20 मिनट होते, तो मैं उन्हें बता पाता कि क्या करना चाहिए। यह उसकी मदद कर सकता है, मैं यह नहीं कह रहा हूं कि इससे उसे मदद मिलेगी, लेकिन यह विशेष रूप से उस ऑफ स्टंप लाइन के संबंध में हो सकता है।”

पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज ने कहा, “एक ओपनर के नाते, उस लाइन से परेशान होने के बाद कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिन्हें करने की आप कोशिश करते हैं। अगर मुझे उनके साथ 20 मिनट बिताने को मिलते हैं, तो मैं उन्हें ये बता पाउंगा।”

गावस्कर ने आगे कहा, “मुझे लगता है कि हमें बस इंतजार करना होगा और देखना होगा कि वह कब वापसी करते हैं। उन्हें कुछ गलतियां करने का हक है। भारत के लिए उनका रिकॉर्ड देखें तो वह 70 इंटरनेशनल सेंचुरी जड़ चुके हैं। उन्होंने सभी फॉर्मेट में और हर कंडीशन में रन बनाए हैं।”

उन्होंने कहा, “हमें धैर्य रखना होगा। हम भारत में एक खिलाड़ी के 32, 33 तक पहुंचने के बाद जल्दी करते हैं, हम हर समय उसे टीम से बाहर करने की कोशिश में रहते हैं, जबकि उनके पास योगदान करने के लिए बहुत कुछ होता है। आइए कोहली के साथ भी धैर्य बरतें। भारतीय क्रिकेट की सेवा करने वाले इन सभी महानुभावों को कुछ गलतियां माफ हैं।”

इंग्लैंड दौरा समाप्त होने के बाद अब कोहली खेल के मैदान से लगभग एक महीने दूर रहेंगें क्योंकि उन्हें वेस्टइंडीज दौरे के लिए टीम में नहीं चुना गया है।