न्यूजीलैंड के खिलाफ वेलिंगटन टेस्ट में 10 विकेट के मिली करारी हार भारतीय फैंस को काफी ज्यादा खल रही है। क्योंकि ना केवल टीम इंडिया ये मैच हारी है बल्कि भारत के प्रमुख बल्लेबाज और कप्तान विराट कोहली इस मैच में कोई बड़ा स्कोर नहीं बना पाए हैं।

दरअसल कोहली न्यूजीलैंड दौरे की शुरुआत से ही अपने चिरपरिचित अंदाज में नहीं दिख रहे हैं। पूरे दौरे पर कोहली अब तक मात्र एक अर्धशतक लग पाए हैं। ऐसे में उन्हें फैंस और समीक्षकों की आलोचना का सामना करना पड़ रहा है लेकिन भारतीय कप्तान को इससे फर्क नहीं पड़ता है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कोहली ने कहा, “मेरा मानना है कि बात खुद को एक अच्छे स्पेस में रखने की है और मुझे पता है कि बाहर हो रही बातें एक पारी के बाद बदल जाती हैं। लेकिन मैं उस तरह से नहीं सोचता। अगर मैं बाहरी लोगों की तरह सोचता तो शायद अभी मैं बाहर ही होता।”

फिट हुए ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या, इस टूर्नामेंट से करेंगे मैदान पर वापसी

अपनी बल्लेबाजी को लेकर कोहली बिल्कुल चिंतित नहीं हैं। उनका कहना है कि स्कोरकार्ड उनकी बल्लेबाजी को नहीं दर्शाते। कप्तान ने कहा, “मैं अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं। मुझे लगता है कि कभी कभार स्कोर आपके बल्लेबाजों को नहीं दर्शाते और जब आप अपनी योजनाओं को सही से लागू नहीं कर पाते हैं तो ऐसा होता है।”

उन्होंने कहा, “देखिए जब आप इतना क्रिकेट खेलते हैं और इतने लंबे समय तक खेलते हैं, तो जाहिर है कि 3-4 पारियां ऐसी होंगी जो लंबी नहीं जाएंगी। अगर आप इससे निकलने की बहुत ज्यादा कोशिश करेंगे तो ये बढ़ती जाएगी। मुझे लगता है कि बात बेसिक्स सही से करने की और अभ्यास में कड़ी मेहनत करने की है। आप ये सोच कर नहीं उतर सकते कि आपको हर बार यही करना है। आप ये करना चाहते हैं लेकिन अगर ऐसा नहीं हो सकता है, तो आपको इसके लिए खुद को ज्यादा परेशान करने की जरूरत नहीं है।”

भारत को 10 विकेट से हराकर न्यूजीलैंड ने आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप में लगाई बड़ी छलांग

पहला टेस्ट मैच हार चुकी टीम इंडिया के सामने अब दूसरा मैच जीतकर सीरीज बराबर करने का मौका है। और कप्तान कोहली को यकीन है टीम इंडिया क्राइस्टचर्च में होने वाले दूसरे मैच में जीत हासिल करेगी। उन्होंने कहा, “मैं अगले टेस्ट मैच में टीम की जीत में योगदान देने को लेकर उत्साहित हूं। इससे फर्क नहीं पड़ता कि मैं क्या करता हूं। बात कभी भी मेरे प्रदर्शन और मैंने कितने रन बनाए, इसकी नहीं थी। बात टीम की जीत की है, उसके लिए 40 रन भी सही है। अगर टीम हारती है तो मेरा शतक भी बेकार है और मैं इसी मानसिकता से आगे बढूंगा।”