Imam-ul-Haq: May never be able to shake off nepotism tag
Imama Ul Haq @twitter

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के युवा ओपनर इमाम उल हक ने कहा है कि उन्होंने अपनी मेहनत से राष्ट्रीय टीम में जगह बनाई लेकिन शायद वह कभी भी खुद पर से वंशवाद का टैग नहीं हटा पाएंगे। इमाम पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और दिग्गज इंजमाम उल हक के भतीजा हैं।

पढ़ेें: बांग्लादेश महिला टीम की कोच अंजू जैन ने पाकिस्तान जाने से किया इनकार

द क्रिकेटर ने इमाम के हवाले से लिखा, ‘मुझे नहीं लगता कि यह बदलेगा। लोग शायद मुझे कभी स्वीकार न करें। मुझे ज्यादा खुशी उस समय होगी जब लोग मुझे इमाम उल हक के रूप में स्वीकार करें न कि किसी के भतीजा के तौर पर।’

उन्होंने कहा कि वह इंजमाम की वजह से टीम में नहीं हैं। इंजमाम हाल में पाकिस्तान के मुख्य चयनकर्ता थे।

इमाम ने कहा, ‘लोग सोचते हैं कि उन्होंने (इंजमाम) मिकी आर्थर (पाकिस्तान के पूर्व कोच) पर मुझे टीम में शामिल करने के लिए दबाव डाला था। लोगों को समझना चाहिए कि हम उस दौर में रह रहे हैं जहां आप मीडिया से कुछ छुपा नहीं सकते। मैं बिना अपने प्रदर्शन के टीम में नहीं हो सकता था।’

पढ़ें: सारा टेलर ने विकेटकीपर बल्लेबाजों के लिए अद्भुत विरासत छोड़ी है: रेचल हेन्स

बकौल इमाम, ‘उन्होंने नहीं देखा कि मैं किसी प्रक्रिया से गुजरा हूं। उन्होंने सिर्फ यह देखा कि मैं इंजमाम का भतीजा हूं और उन्होंने मान लिया कि उन्हें मेरी आलोचना करने का अधिकार है।’