In subcontinent, players get more leeway in terms of retirement says Steve Waugh
MS DHONI IANS

आईसीसी विश्व कप के शुरू होने से पहले ही पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के टूर्नामेंट के बाद संन्यास लेने की अटकलें लगाई जा रही थी। भारत सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हारकर विश्व कप से बाहर हो गया। अब भी यही सवाल है कि धोनी कब संन्यास ले रहे हैं।

इस मामले में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ का मानना है कि उनके देश में बड़े सितारों को बाहर करने के लिए सर्वश्रेष्ठ चरणबद्ध नीति है। उप महाद्वीप में एक बार खिलाड़ी महान दर्जा हासिल कर ले तो उसके लिए ऐसा करना मुश्किल हो जाता है।

पढ़ें:- ‘धोनी ने विश्व कप में दिखाया, उनमें अभी काफी क्रिकेट बचा है’

धोनी के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भविष्य को लेकर चल रहे विवाद के संदर्भ में जब वॉ से सवाल पूछा गया तो उन्होंने पीटीआई से क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की संन्यास लेने की नीति के बारे में बात की।

उन्होंने कहा, ‘‘यह दिलचस्प है। ऑस्ट्रेलिया निश्चित रूप से ऐसा करता है। यह मायने नहीं रखता कि आप कौन हो क्योंकि आपको जाना ही होता है।’’

पढ़ें:- धोनी के रिटायरमेंट के सवाल पर कप्‍तान कोहली ने दिया जवाब

ऑस्ट्रेलिया के सबसे सफल कप्तानों में से एक वॉ को लगता है कि ऑस्ट्रेलिया के हालात की तुलना भारत से करना सही नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘‘शायद उप महाद्वीप में आपको ज्यादा स्वतंत्रता मिलती है क्योंकि 1.40 करोड़ लोग आपको फॉलो कर रहे होते हैं। खिलाड़ी व्यक्ति नहीं रहता। वे महान बन जाते हैं, भगवान। इसके बाद बाहर होना बहुत मुश्किल हो जाता है। जब लोग कुछ निश्चित उम्र के हो जाते हैं तो यह काफी चुनौतीपूर्ण बन जाता है। महेंद्र सिंह धोनी का आप जिक्र कर रहे हो, वह अब भी महान खिलाड़ी है।’’