ऑस्ट्रेलिया में इस बार भारत टेस्ट सीरीज खेलने के लिए गया तो क्रिकेट पंडितों की राय थी कि इस बार ऑस्ट्रेलिया भारत (IND vs AUS Test Series) से अपनी पिछली हार का बदला जरूर लेगी. लेकिन ऐसा हो न सका. टीम इंडिया एक के बाद अपने खिलाड़ियों की चोट से कमजोर हो रही थी. उसके नियमित कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) भी सीरीज के पहले मैच के बाद घर लौट आए थे.

लेकिन कमजोर मानी जा रही भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया की धाकड़ टीम को भी चैंपियन वाले अंदाज में 2-1 से पीट दिया. इस हार के बाद ऑस्ट्रेलिया के कोच जस्टिन लैंगर (Justin Langer) ने कहा कि भारतीय खिलाड़ियों को कभी कम आंकने की गलती नहीं करनी चाहिए. भारत ने सीरीज के अंतिम टेस्ट में गाबा के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया को मैच के आखिरी दिन हरा कर हैरान कर दिया.आस्ट्रेलिया में यह भारत की लगातार दूसरी टेस्ट सीरीज जीत है.

यह जीत इसलिए भी खास है क्योंकि टीम इंडिया में इस बार कई खास खिलाड़ी मौजूद नहीं थे. कप्तान विराट अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए स्वदेश लौट आए थे. पहला टेस्ट खेलकर जब विराट भारत लौटे, तब भारत इस बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी (Border Gavaskar Trophy) में 0-1 से पिछड़ चुका था. इसके बाद उसके ज्यादातर मुख्य खिलाड़ी चोटिल होने लगे. आखिरी टेस्ट में भारतीय टीम में कप्तान अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा और रोहित शर्मा के रूप में ही सिर्फ तीन अनुभवी खिलाड़ी बचे थे.

इसके अलावा भारत ने आखिरी टेस्ट गाबा के उस मैदान पर खेला था, जहां ऑस्ट्रेलिया बीते 32 साल से कभी हारा नहीं था. लेकिन कमजोर मानी जा रही इस टीम इंडिया ने मेजबान देश को यहां बुरी तरह से पीटकर स्तब्ध कर दिया.

लैंगर ने ‘चैनल 7’ से कहा, ‘यह बेहतरीन टेस्ट सीरीज थी. अंत में एक हारता है तो एक जीतता है. आज टेस्ट क्रिकेट जीता. हमें यह हार लंबे समय तक चुभेगी. इस जीत का श्रेय पूरी तरह से भारत को जाता है. हमने इससे सबक सीखा है.’

उन्होंने कहा, ‘पहली बात, कभी किसी चीज को हल्के में नहीं लेना और दूसरा यह कि भारतीयों को कभी कमतर नहीं आंकना चाहिए. भारत की आबादी लगभग डेढ़ अरब है और अगर आप उसके प्लेइंग XI में हैं तो वाकई काफी उम्दा और मजबूत खिलाड़ी होंगे.’

लैंगर ने आगे कहा कि एडिलेड में 36 रन पर ढेर होने के बाद भारत ने जिस तरह से वापसी की, वह शानदार थी. उन्होंने कहा कि जसप्रीत बुमराह और रवींद्र जडेजा जैसे बड़े खिलाड़ियों के चोटिल होने के बावजूद ऐसी जीत बहुत बड़ी उपलब्धि है.

इस कंगारू कोच ने कहा, ‘भारतीय टीम की जितनी तारीफ की जाए, कम है. पहला मैच 3 दिन में हारने के बाद भी उन्होंने हौसला नहीं छोड़ा और बेहतरीन वापसी की. हमें बड़ा सबक मिला है और अब कभी भारत को हल्के में नहीं लेंगे.’

लैंगर ने मैच में नाबाद 89 रन बनाकर भारत रको जीत की मंजिल तक पहुंचाने वाले बल्लेबाज ऋषभ पंत की तारीफ करते हुए कहा, ‘पंत की पारी एक शानदार पारी थी. उनकी पारी देखकर मुझे हेडिंग्ले में बेन स्टोक्स की पारी याद आ गई. वह बिल्कुल निडर होकर खेले। यह एक अविश्वसनीय पारी रही.’

इनपुट : आईएएनएस