IND vs AUS: T Natrajan teared up after receiving Virat Kohli handed him T20I Trophy

नेट गेंदबाज के तौर पर ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गए टी नटराजन ने कभी नहीं सोचा होगा कि इस सीरीज के दौरान उन्हें एक साथ भारत के लिए वनडे, टी20 और टेस्ट तीनों फॉर्मेट में डेब्यू करने का मौका मिलेगा।

चोटिल वरुण चक्रवर्ती की जगह भारतीय स्क्वाड में शामिल हुए नटराजन को जब वनडे स्क्वाड में भी जगह दी गई तो वो काफी हैरान हुए। और जब टी20 सीरीज में 2-1 से मिली जीत के बाद कप्तान विराट कोहली ने प्रेसेंटेशन के दौरान उन्हें ट्रॉफी दी तो नटराजन अपने आंसू नहीं रोक पाए।

क्रिकबज ने नटराजन के हवाले से लिखा, “मुझे अचानक से मौका मिला, मैंने (कैनबरा में) वनडे डेब्यू करने के बारे में सोचा नहीं था। अचानक से मैनेजमेंट ने मुझ बताया कि मैं खेल सकता हूं और वो मेरे लिए दबाव था लेकिन मैं मौके का पूरा फायदा उठाना चाहता था, इसलिए मैंने उसी पर पूरा ध्यान लगाया। पहला विकेट और फिर उसके बाद जो भी हुआ वो सपने जैसा था।”

IND vs ENG: इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज से पहले 27 जनवरी को चेन्नई पहुंचेगी भारतीय टीम

तीन मैचों में 6 विकेट लेकर नटराजन भारत-ऑस्ट्रेलिया टी20 सीरीज में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बने। सीरीज जीतने के बाद जब कोहली ने उन्हें ट्रॉफी दी तो नटराजन काफी भावुक हुए।

उन्होंने कहा, “मैंने इसकी उम्मीद नहीं की थी कि कोहली मेरे पास आकर मुझे ट्रॉफी देंगे। मैं कोने में खड़ा हुआ था। जब कोहली जैसा दिग्गज आपको ट्रॉफी देता है तो वो अलग एहसास होता है- मैं इसे बयां नहीं कर सकता।”

ऑस्ट्रेलिया दौरे होने की वजह से नटराजन ने अपने पहले बच्चे का जन्म देखने का मौका खो दिया। इस बारे में उन्होंने कहा, “ये काफी मुश्किल था, हां। लेकिन मेरे पत्नी और मेरे परिवार के लिए मेरा देश का प्रतिनिधित्व करना ज्यादा बड़ी खुशी थी।”

ऑस्ट्रेलिया में शानदार डेब्यू के बाद अब टीम इंडिया के लिए और बड़े कीर्तिमान हासिल करना चाहते हैं नटराजन

सेलम के चिन्नप्पमपट्टी गांव के रहने वाले नटराजन जब ऑस्ट्रेलिया दौरे से लौटे तो उनका स्वागत बड़े धूमधाम से किया गया। 29 साल के तेज गेंदबाज ने कहा, “मैंने कभी इस तरह के स्वागत की उम्मीद नहीं की थी। मैं अपने गांव के लोगों का शुक्रिया करता हूं। ये कभी ना भुला पाने वाला अनुभव था और मैं सेलम को पहचान दिलाने के बड़े सपने देखे थे।”

उन्होंने आगे कहा, “ये सब भगवान की कृपा है और मैं फिलहाल बहुत खुश हूं। इसकी कोई सीमा नहीं है और मैं इस एहसास को बयां नहीं कर सकता। मुझे लगता है कि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चुना जाना मेरे लिए बहुत बड़ा तोहफा था।”