कोविड- 19 के संक्रमण के चलते आईसीसी ने इंटरनेशनल मैचों में यह छूट दी है कि घरेलू अंपायर ही अंपायरिंग कर सकते हैं. भारत और इंग्लैंड की टीमें 5 फरवरी से 4 टेस्ट मैच की सीरीज का आगाज करेंगी. इस दौरान तीनों भारतीय अंपायर अंपायरिंग का जिम्मा संभालेंगे. आईसीसी पैनल में शामिल भारत के 3 अंपायर नितिन मेनन, अनिल चौधरी और वीरेंदर शर्मा यह जिम्मा संभालेंगे.

अनिल चौधरी और वीरेंदर शर्मा का यह टेस्ट अंपायरिंग का यह डेब्यू होगा, जबकि नितिन मेनन 3 टेस्ट मैचों में अंपायर की भूमिका निभा चुके हैं. चौधरी और शर्मा आईसीसी अमीरात पैनल के सदस्य हैं, जबकि नितिन मेनन एलीट पैनल में शामिल हैं.

कोविड- 19 के दौर में घरेलू अंपायरों से अंपायरिंग कराने के पीछे तर्क यह दिया गया कि दोनों टीमों को हर पारी में अंपायरों की डिसीजन की समीक्षा (DRS) के लिए अपील करने के 3 मौके मिलते हैं, जिससे गलत फैसलों की गुंजाइश कम रह जाती है.

नितिन मेनन भारत के सबसे युवा अंपायरों में से हैं, जबकि वीरेंदर शर्मा वनडे और टी20 मैचों में अंपायरिंग कर चुके हैं. इसके अलावा अनिल चौधरी 20 वनडे और 28 टी20 मैचों में अंपायरिंग कर चुके हैं. मेनन अब तक 3 टेस्ट, 24 वनडे और 16 टी20 में अंपायरिंग की है. इसके अलावा इन तीनों को आईपीएल में भी अंपायरिंग का अच्छा अनुभव है.