एमएस धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी के मुरीद सिर्फ भारत में ही नहीं हैं. पड़ोसी देश पाकिस्तान भी उनकी कप्तान की कायल है. पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर यासिर अराफात (Yasir Arafat) तो धोनी को अपने देश की टीम का कप्तान बनाना चाहते हैं. अराफात ने कहा कि अगर धोनी रिटायर नहीं हुए होते वह उन्हें पाकिस्तान टीम की कप्तानी सौंपना चाहते, जिससे कि उनकी टीम के खिलाड़ी भी बेहतर प्रदर्शन करने में अपना योगदान निभा पाते.

धोनी ने भारतीय टीम की कमान संभालने के बाद उसे नए मुकाम पर पहुंचाया. उनकी कप्तानी में भारत ने आईसीसी की तीनों ट्रॉफियां अपने नाम कीं. ऐसा करने वाले वह दुनिया के इकलौते कप्तान हैं, जिसने टी20 वर्ल्ड कप, चैंपियन्स ट्रॉफी और वनडे वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया हो. या

अराफात ने कहा कि पाकिस्तान को भी धोनी जैसे कप्तान की जरूरत है, जिससे मैन इन ग्रीन के खिलाड़ी मैदान पर अपना बेहतर प्रदर्शन दे पाएं.

अराफात स्पोर्ट्स यारी पर बात कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा, ‘एमएस धोनी अब नहीं खेल रहे हैं, लेकिन अगर वह रिटायर नहीं हुए होते, तो मैं उन्हें पाकिस्तान टीम के प्लेइंग XI में लाकर उन्हें कप्तानी सौंपता. पाकिस्तान की मौजूदा टीम को धोनी जैसे कप्तान की सख्त जरूरत है, जो मानव-प्रबंधन में बहुत कुशल हो और खिलाड़ियों से उनका सर्वश्रेष्ठ निकालना जानता हो.’

इसके बाद अराफात ने धोनी की मैच फिनिशिंग स्किल की भी जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा, ‘आपने शोएब अख्तर को अक्सर यह कहते सुना होगा कि जब वह धोनी के सामने बॉलिंग करने आते थे तो उन्हें समझ नहीं आता था कि वह उन्हें कैसे छकाएंगे. वह मानसिक और शारीरिक तौर पर बहुत मजबूत हैं. धोनी से पहले 90 के दौर में माइकल बेवन होते थे. उनका बैटिंग औसत 50 से ज्यादा था. मैं नहीं समझता कि मौजूदा दौर में कोई ऐसा बल्लेबाज है, जिसका मैच फिनिशर के रूप में औसत 50 के करीब हो.’