लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर रहे कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) को आईपीएल (IPL 2021) के दौरान घुटने में चोट लग गई थी. जिसके चलते उन्‍हें सर्जरी से गुजरना पड़ा. ऐसे में घरेलू क्रिकेट में खेलने से वंचित रहे कुलदीप को चयनकर्ताओं ने जब वेस्‍टइंडीज के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज में मौका दिया तो हर कोई हैरान रह गया. हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने भारत के इस स्पिनर को मौका दिए जाने से काफी खुश हैं. हालांकि उनका कहना है कि कलदीप की आगे की राहें इतनी आसान नहीं होने वाली हैं. भज्‍जी कोलकाता नाइटराइडर्स में कुलदीप के साथ खेल चुके हैं.

राष्ट्रीय चयनकर्ताओं ने अपवाद स्वरूप कुलदीप को मैच फिटनेस साबित किये बिना ही टीम में शामिल कर लिया है क्योंकि इस समय कोई घरेलू क्रिकेट नहीं हो रहा है और ऐसा खिलाड़ियों के साथ कम ही होता है.

साल 2018 में जब भारतीय टीम साउथ अफ्रीका गई थी तब कुलदीप की फिरकी ने प्रोटियाज पर जमकर कहर ढहाया था. इसी साल इंग्‍लैंड दौरे पर भी कुलदीप काफी चमके थे. भज्‍जी ने न्‍यूज एजेंसी पीटीआई से बातचीत के दौरान कहा, ‘‘कुलदीप के पास चोट से वापसी के बाद कोई भी उचित घरेलू मैच नहीं है और ऐसे ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वापसी करना आसान नहीं है. वह सर्जरी से पहले भी नियमित रूप से नहीं खेल रहा था और जब आप सीमित ओवरों की क्रिकेट में वापसी करते हो तो सबसे पहले आपके दिमाग में बस एक बात होती है, ‘मेरी गेंद पर बल्लेबाज हिट नहीं करे’. ’’

हरभजन ने कहा, ‘‘इसलिये यह एक संतुलन बनाने की बात है क्योंकि आप साफ तौर पर कई तरह की असुरक्षा से निपट रहे होते हो. यह मानसिक मजबूती और संयम का परीक्षण होता है. लेकिन मैं स्पष्ट कर दूं. अगर उसे शुरूआती एक दो विकेट मिल जाते हैं तो वह एक अलग ही गेंदबाज होगा लेकिन हो सकता है चीजें योजना के अनुसार नहीं चलें. उसे लय हासिल करने में कुछ समय लग सकता है.’’

हरभजन ने कहा, ‘‘पर मेरा सुझाव यही होगा कि अगर आपने पिछले प्रदर्शन को देखकर उस पर भरोसा दिखाया है तो उसे काफी समय दीजिये और उस पर भरोसा दिखाइये. वह ऐसा गेंदबाज है जो भारत के लिये अच्छा प्रदर्शन कर सकता है.’’